'हमारी जाति का नहीं, हत्या के कारणों का पता लगाएं'

रोहित वेमुला इमेज कॉपीरइट PTI

हैदराबाद यूनिवर्सिटी के छात्र रोहित वेमुला की आत्महत्या की जांच रिपोर्ट सार्वजनिक की गई है, जिसमें बताया गया है कि वह दलित नहीं थे.

रोहित के भाई राजा वेमुला ने इस रिपोर्ट पर आपत्ति जताई है. उन्होंने कहा है कि कमेटी को यह अधिकार नहीं है कि वे यह तय करें कि हमलोग दलित हैं या नहीं."

मंगलवार को सार्वजनिक किए गए रिपोर्ट में यह कहा गया है कि रोहित ने आत्महत्या विश्वविद्यालय प्रशासन से तंग आकर नहीं, बल्कि निजी कारणों से किया था.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

बीजेपी की है साजिश

बीबीसी से बात करते हुए राजा ने आरोप लगाया कि जांच रिपोर्ट जाति पर केंद्रित है. उन्होंने कहा, "मैं अनुरोध करना चाहता हूं कि हमारी जाति का नहीं, हत्या के मूल कारणों का पता लगाया जाए."

जांच रिपोर्ट मानव संसाधन विकास मंत्रालय द्वारा बनाए गए न्यायिक आयोग ने दी है. कमेटी में इलाहबाद हाई कोर्ट के जज जस्टिस ए के रूपनवाल शामिल थे.

राजा ने कहा कि आखिर वे किस आधार पर कह रह हैं कि रोहित ने निजी कारणों के चलते आत्महत्या की. उन्होंने हमारे परिवार से बात तक नहीं की है. वे नेताओं और विश्वविद्यालय प्रशासन को बचाना चाहते हैं.

उन्होंने कहा, "यह बीजेपी की साजिश है. वे अपने नेताओं को बचाना चाहती है."

Image caption तस्वीर में रोहित वेमुला की मां और उनके भाई राजा वेमुला

'रोहित अवसाद ग्रस्त नहीं था'

रिपोर्ट के अनुसार रोहित अवसाद ग्रस्त था. इस पर उनके भाई राजा ने कहा, "यह बिलकुल झूठ है. रोहित बहुत ही सक्रिय इंसान था. तेज़ तर्रार था. वह पढ़ाई में भी अच्छा कर रहा था."

मंत्रालय की रिपोर्ट में कहा गया है कि रोहित वेमुला दलित नहीं थे, इस पर राजा वेमुला ने कहा, "हमलोग माला समुदाय से हैं, जो अनुसूचित जाति से संबंध रखते हैं. आख़िर वे किस आधार पर हमारी जाति तय कर रहे हैं."

"यह डीएम और राष्ट्रीय अनुसूचित जाति आयोग तय करते हैं. उन्होंने जांच कर हमलोगों को अनुसूचित जाति का बताया है. उन्होंने इस संदर्भ में रिपोर्ट भी जारी किया है."

इमेज कॉपीरइट ROHITH VEMULA FACEBOOK PAGE

बचपन से मां के साथ रहा, इसलिए दलित हूं

रिपोर्ट के अनुसार रोहित की मां अनुसूचित जाति से और उनके पिता अति पिछड़ा वर्ग से संबंध रखते हैं.

इस पर उनके भाई राजा ने कहा, "हमलोग अपनी मां के साथ शुरू से रह रहे हैं. बचपन से ही हमलोग अपने पिता के साथ नहीं रहे हैं. सुप्रीम कोर्ट की रिपोर्ट के मुताबिक ऐसी स्थिति में हम अपनी मां की जाति अपना सकते हैं."

आगे क्या करेंगे, इस सवाल पर उन्होंने कहा, "कोर्ट में केस चल रहा है. मेरे वकील केस देख रहे हैं."

जब हमने रोहित की मां से बात करना चाही तो राजा ने बताया कि उनकी मां की तबीयत ठीक नहीं है. उन्हें डायबिटीज और बीपी है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे