अररिया में साजरा परवीन की मां बाढ़ में बह गईं

साजरा परवीन इमेज कॉपीरइट Niraj Sahai
Image caption साजरा परवीन

बिहार के अररिया ज़िले में आई भीषण बाढ़ ने कई की उम्मीदों पर पानी फेर दिया है. भीषण बाढ़ की त्रासदी झेल रहे बिहार में बुधवार तक 72 लोगों की मौत हो गई है.

ऐसा गांव जो बाढ़ में 'भारत का नहीं' रहता!

'नदी तुम शांत हो जाओ, तुम्हें सोने का हार देंगे'

सबसे अधिक 23 की मौत अकेले अररिया ज़िले में हुई है. इनमें से एक बलुआ गांव की फिरोज़ा हैं. उनकी बेटी साजरा परवीन बी.ए पार्ट टू की छात्रा को अंदाज़ा भी नहीं था कि जिसके सहारे उसने यहां तक पढ़ाई की उसी का हाथ मुश्किल की इस घड़ी में उससे छूट जाएगा.

इमेज कॉपीरइट Niraj Sahahi
Image caption बिहार में अररिया सबसे अधिक है बाढ़ से प्रभावित

'घर का सामान बाहर रखकर अम्मी को लेने आई'

करीब 18 साल की साजरा को अफ़सोस है कि जिस मां ने उसे पाल-पोस कर इतना बड़ा किया उसी के लिए वह कुछ नहीं कर पाई.

रविवार को हुए हादसे के बारे में वह विस्तार से बताती है, "घर का सामान बाहर रखकर अम्मी को लेने आई. घर से बाहर ले जाते समय मेरा हाथ उससे हाथ छूट गया और वह पानी के तेज़ बहाव के साथ चली गई. मैं कुछ न कर सकी. दूसरे दिन बांस के पेड़ों के बीच उसका शव मिला."

सोशल मीडिया पर वायरल इस तस्वीर की पूरी कहानी

वह जैसे ही अपनी मां को खोने के दुख से थोड़ा उबरने की कोशिश करती हैं, उसे अपने भविष्य की चिंताएं सताने लगती हैं. अपने जन्म से पहले ही पिता को खो देने वाली साजरा के अनुसार पहले मां के भरोसे जी रहे थे और अब आगे किसके भरोसे रहेंगे.

इमेज कॉपीरइट Niraj Sahai

कई प्रतियोगिताओं में फर्स्ट रहीं साजरा

स्कूली दिनों को याद करते हुए साजरा बताती हैं कि मुख्यमंत्री ने उसे साइकिल देकर पुरस्कृत किया था. वह यह भी बताती हैं कि सुई-धागा दौड़ में भी वह पहले स्थान पर आई थीं.

वह कहती हैं, "मैं वर्ष 2010 में अररिया के मुर्बल्ला चौक से ओवरब्रिज तक आयोजित साइकिल रेस में पहले स्थान पर आई थी. महज़ पांच मिनट में वह दूरी मैंने तय की थी. उसके बाद मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने मुझे पुरस्कृत किया था."

इमेज कॉपीरइट Niraj Sahai
Image caption साजरा की झोपड़ी भी बाढ़ में बह गई

भविष्य को लेकर साजरा को चिंता

2012 में पूर्णिया के कला भवन में चार ज़िलों अररिया, पूर्णिया, कटिहार और किशनगंज के बच्चों के खेल का कार्यक्रम हुआ था. वह कहती हैं कि अररिया ज़िले को उन्होंने वहां सुई-धागा दौड़ में पहला स्थान दिलाया था वहां से भी सर्टिफिकेट मिला था, लेकिन सब पानी में गल गया है.

बलुआ गांव की साजरा की आँखों में मां के मरने का ग़म है, उसके माथे पर आने वाली मुसीबतों को लेकर चिंता की लकीरें हैं. इसके बावजूद जब वह स्कूली दिनों की अपनी उपलब्धियों को याद करती हैं तो उनका चेहरा आत्मविश्वास से भर जाता है.

वीडियो बाढ़ आई, साथ में आ गया मगरमच्छ!

ऐसा लगता है कि बाढ़ की तबाही ने भले ही उनकी मां को छीन लिया हो और झोपड़ी पानी में बह गई हो लेकिन मुसीबतें उसके हौसले को डूबो नहीं पाई हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे