झारखंडः चोटीकटवा के शक में महिला की पीट-पीटकर हत्या

महिला की पीट-पीट कर हत्या इमेज कॉपीरइट Gaurav sinha

झारखंड के साहिबगंज में भीड़ ने एक महिला की पीट-पीटकर हत्या कर दी. जिले के पुलिस अधीक्षक पी मुरुगन ने बताया है कि यह घटना राधानगर थाना क्षेत्र के मीरगंज गांव की है.

यहां चोटीकटवा गिरोह के आने के संदेह में भीड़ ने महिला पर बुरी तरह से हमला कर दिया, जिससे उसकी मौत हो गई.

महिला के साथ मौजूद एक बच्चे समेत दो लोगों को उग्र भीड़ के क़ब्ज़े से छुड़ाने में पुलिस सफल रही है. हालांकि भीड़ ने बच्चे को भी पीट-पीट कर घायल कर दिया है.

पुलिस अधीक्षक के मुताबिक उग्र भीड़ ने पुलिस की कार्रवाई का विरोध किया और अधिकारियों-जवानों पर पत्थर भी फेंके.

पत्थरबाजी में बड़हरवा थाने के इंस्पेक्टर समेत छह पुलिस के जवान घायल हो गए हैं. पुलिस की कई गाड़ियों के शीशे भी चकनाचूर हुए हैं. ऐसे में हालात बिगड़ते देख पुलिस ने कई राउंड हवाई फायरिंग की.

क्या है चोटी काटने की घटनाओं का रहस्य

अफ़वाहों से परेशान हैं राजस्थान की महिलाएं

इमेज कॉपीरइट Gaurav sinha

पुलिस अधीक्षक घटना स्थल पर कैंप कर रहे हैं. राजमहल अनुमंडल और ज़िला मुख्यालय से अतिरिक्त पुलिस बलों को घटनास्थल पर भेजा गया है.

इस बीच घायल पुलिस इंस्पेक्टर को इलाज के लिए बड़हरवा के अस्पताल में भर्ती कराया गया है. इनके अलावा घायल बच्चे का भी अस्पताल में इलाज कराया जा रहा है.

पुलिस महिला के शव को पोस्टमॉर्टम के लिए भेज रही है. फिलहाल शव की शिनाख़्त नहीं की जा सकी है.

जिस महिला की हत्या हुई वो कौन थी और किस इलाक़े की थी, इस बारे में पूछे जाने पर पुलिस अधीक्षक ने बताया कि इसकी तहक़ीक़ात जारी है.

प्रारंभिक छानबीन में ये बातें सामने आई हैं कि मीरगंज गांव में अनजान चेहरे देखकर लोगों ने चोटीकटवा गिरोह होने का हल्ला किया और तीनों लोगों को क़ब्ज़े में ले लिया.

इमेज कॉपीरइट Gaurav sinha

देखते ही देखते बड़ी तादाद में लोग जुट गए और मारपीट शुरू कर दी.

फिलहाल पूरे इलाक़े में तनाव है, लेकिन हालात नियंत्रण में हैं. इस बीच पुलिस ने कुछ लोगों को हिरासत में लिया है. जिला प्रशासन ने लोगों से किसी अफ़वाह में पड़कर क़ानून को हाथ में नहीं लेने की हिदायत दी है.

झारखंड में हफ़्ते भर से कई इलाक़ों में कथित तौर पर चोटी कटने की घटनाएं सामने आई थी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे