ऐतिहासिक फ़ैसला मुस्लिम महिलाओं को समानता का अधिकार देगा: पीएम मोदी

नरेंद्र मोदी इमेज कॉपीरइट Getty Images

तीन तलाक पर सुप्रीम कोर्ट के फ़ैसले का सभी राजनीतिक पार्टियों के नेताओं ने स्वागत किया है. सभी ने इसे मुस्लिम महिलाओं के पक्ष और उनके अधिकारों की सुरक्षा की दिशा में एक बड़ा क़दम बताया है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सुप्रीम कोर्ट के फ़ैसले का स्वागत करते हुए ट्विटर पर लिखा है, "तीन तलाक़ पर सर्वोच्च न्यायालय का फ़ैसला ऐतिहासिक है. यह फ़ैसला मुस्लिम महिलाओं को समानता का अधिकार देगा और उन्हें सशक्त करेगा.

इमेज कॉपीरइट TWITTER

भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने भी फ़ैसले पर खुशी जताई है. उन्होंने फ़ैसले को किसी की हार या जीत का मामला नहीं बताया है. उन्होंने ट्वीट किया है, "यह मुस्लिम महिलाओं के समानता के अधिकार और मूलभूत संवैधानिक अधिकार की जीत है. सुप्रीम कोर्ट का यह फ़ैसला करोड़ों मुस्लिम महिलाओं को समानता एवं आत्मसम्मान के साथ जीने का अधिकार देगा."

सुप्रीम कोर्ट: '3-2 के बहुमत से तीन तलाक़ असंवैधानिक करार'

वो मामले जिनके आधार पर तीन तलाक़ को असंवैधानिक क़रार दिया गया

इमेज कॉपीरइट TWITTER

कांग्रेस पार्टी ने भी तीन तलाक़ पर सुप्रीम कोर्ट के फ़ैसले का स्वागत किया है. पार्टी के ऑफिशियल ट्विटर हैंडल में लिखा गया है, "हम सुप्रीम कोर्ट के इस फ़ैसले का स्वागत करते हैं. देश की महिलाओं के समान अधिकार के लिए यह एक प्रगतिशील और धर्म निरपेक्ष फ़ैसला है."

मुग़ल काल में तलाक़ के क्या नियम थे?

इमेज कॉपीरइट TWITTER

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने फ़ैसले पर खुशी जताते हुए लिखा है, "तीन तलाक़ पर सुप्रीम कोर्ट के फ़ैसले का हम स्वागत करते हैं. फ़ैसले से मुस्लिम महिलाओं को न्याय मिला है. यह महिला सशक्तिकरण की दिशा में एक बेहतर शुरुआत है."

इमेज कॉपीरइट TWITTER

कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता मनीष तिवारी ने ट्वीट किया है, "तीन तलाक़ पर सुप्रीम कोर्ट का फ़ैसला स्वागत योग्य है. यह एक रचनात्मक और प्रगतिशील फ़ैसला है, जिसका स्वागत हर सही सोच के व्यक्ति को करना चाहिए."

जब मुसलमानों ने ही तीन तलाक़ को ग़लत माना तो ये दख़ल क्यों?

इमेज कॉपीरइट TWITTER

सुब्रमण्यम स्वामी ने लिखा है, "सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायधीश ने एक चतुर फ़ैसला दिया है. तीन तलाक़ पर छह महीने का प्रतिबंध लगाया है और संसद को इस पर बहस कर नया क़ानून बनाने को कहा है."

इमेज कॉपीरइट TWITTER

अरुण जेटली ने फ़ैसले को पीड़ित मुस्लिम महिलाओं की जीत बताया है. उन्होंने लिखा है, "वैवाहिक संबंधों का एक तरफा समापन अब खत्म होगा."

वो मामला जिसके चलते तीन तलाक़ अंसवैधानिक क़रार दिया गया

इमेज कॉपीरइट TWITTER

आम आदमी पार्टी के नेता आशुतोष ने लिखा है, "आम आदमी पार्टी सुप्रीम कोर्ट के फ़ैसले का स्वागत करता है. यह एक ऐतिहासिक क़दम है. आशा करते हैं कि अब मुस्लिम महिलाओं को इसे झेलना नहीं पड़ेगा."

इमेज कॉपीरइट TWITTER

भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (मार्क्सवादी) ने भी अपने ऑफिशियल ट्वीटर हैंडल पर तीन तलाक़ पर आए फ़ैसले का स्वागत किया है. पार्टी ने लिखा है, "तीन तलाक़ को असंवैधानिक करार देने के सुप्रीम कोर्ट के फ़ैसले का सीपीआईएम स्वागत करता है."

इमेज कॉपीरइट TWITTER

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)