क्या भारत हमारे घर में घुसकर टिक सकता है: चीन

चीन विदेश मंत्रालय इमेज कॉपीरइट Ministry of Foreign Affairs of China
Image caption हुआ छुनइंग

गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने हाल ही में कहा था कि भारत और चीन के बीच डोकलाम मामला जल्द सुलझा लिया जाएगा. इससे जुड़े सवाल के जवाब में मंगलवार को चीन के विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता हुआ छुनइंग ने कहा है कि उनके देश का शांति में विश्वास है.

भारत-चीन सीमा पर गोलियां क्यों नहीं चलतीं?

डोकलाम मामले पर भारत से रूस की कथित चर्चा पर हुआ ने कहा कि डोकलाम मामला गंभीर है और इससे जुड़े तथ्य सभी देख रहे हैं. उन्होंने कहा कि भारत के तर्कों को अगर देखा जाए तो क्या वह पड़ोसी के घर में घुस सकता है और टिक सकता है?

इमेज कॉपीरइट AFP

पूरी दुनिया में अराजकता

उन्होंने कहा कि, "अगर हम भारत के तर्क को मानते हैं तो इसका मतलब है कि चीन का विश्वास सीमा पर बड़े पैमाने पर बुनियादी ढांचा खड़ा करने पर है. इस प्रकार से हमारे लिए भी यह न्यायसंगत हो सकता है कि हम भी अपने सैनिक भारत में भेजकर उसे रोकें? अगर ऐसा होता है तो पूरी दुनिया में अराजकता होगी और अंतरराष्ट्रीय संबंध बेकार हो जाएंगे."

'अगर चीन भारत में घुसे तो तहलका मच जाएगा'

हुआ ने कहा कि उनका देश राष्ट्रीय संप्रभुता और क्षेत्रीय अखंडता की सुरक्षा करने के लिए दृढ़ है और वह किसी भी देश को भी किसी भी बहाने के तहत अपनी क्षेत्रीय संप्रभुता को ख़तरे में डालने की अनुमति नहीं देगा.

इमेज कॉपीरइट EPA
Image caption डोकलाम मसला सुलझा लेंगे: राजनाथ

बिना शर्त भारत वापस जाए: चीन

उन्होंने कहा कि, "हम कई बार कह चुके हैं कि भारतीय सैनिकों द्वारा अवैध तौर पर डोकलाम में सीमा रेखा पार करने का मामला तभी सुलझेगा जब बिना शर्त भारतीय सैनिक अपने साज़ो-सामान के साथ वापस भारतीय सीमा में जाएंगे."

हुआ ने कहा कि उन्होंने राजनाथ सिंह का वह बयान देखा है जिसमें उन्होंने कहा था कि भारत ने किसी देश पर हमला नहीं किया है और उसकी अपनी सीमा विस्तार करने की कोई महत्वाकांक्षा नहीं है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

'130 सालों से सीमा का पालन'

उन्होंने आगे कहा कि इस सीमा को लेकर दोनों पक्षों के बीच आपसी सहमति रही है जिसका वह 130 सालों से पालन कर रहे हैं जबकि भारत के सैनिक चीनी सीमा में हैं और वह इस कार्रवाई को सही ठहराने के लिए बहाने बना रहे हैं.

भारत को अपने शब्दों पर क़ायम रहने की उम्मीद जताते हुए हुआ ने कहा कि, "भारत अपनी पिछली गलतियों को ठीक करने के लिए सकारात्मक कदम उठाएगा."

फिएट को क्यों ख़रीदना चाहता है चीन का ग्रेट वॉल?

चीन को अत्यंत संयमित बताते हुए हुआ ने कहा कि उनका देश धैर्य और सहिष्णुता दिखा सकता है लेकिन भारत जैसे बड़े देश से भी वह यही आशा करता है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे