निजता के अधिकार पर फ़ैसले का सरकार ने किया स्वागत, येचुरी बोले- 'यू-टर्न की कोशिश'

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption फाइल फोटो

सुप्रीम कोर्ट ने निजता के अधिकार को मौलिक अधिकार माना है और इस फ़ैसले की व्याख्या केंद्र सरकार के लिए झटके के तौर पर की जा रही है.

हालांकि केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने प्रेस कॉन्फ़्रेस करके इस फ़ैसले का स्वागत किया और विपक्ष पर पलटवार किए.

उन्होंने ट्विटर पर भी लिखा कि सरकार चाहती थी कि निजता के हक को मौलिक अधिकार माना जाए. कांग्रेस पर पलटवार करते हुए कहा, 'आपातकाल के समय निजी स्वतंत्रता की रक्षा में कांग्रेस का रिकॉर्ड क्या रहा है?'

इमेज कॉपीरइट Twitter/@rsprasad

'जायज़ पाबंदियों के साथ'

कानून मंत्री ने कहा कि फ़ैसला पढ़े बिना सुबह से हमें सिविल लिबर्टी की दुहाई दी जा रही है जबकि सुप्रीम कोर्ट ने उसी बात को पुष्ट किया है जो संसद में आधार बिल लाते समय सरकार ने कही थी.

उन्होंने कहा, 'निजता मौलिक अधिकार होनी चाहिए, लेकिन जायज़ पाबंदियों के साथ.'

इमेज कॉपीरइट Twitter/@DG_PIB

उन्होंने कहा कि आधार बिल पेश करते समय ही अरुण जेटली ने राज्यसभा में कहा था कि मैं स्वीकार करता हूं कि निजता का अधिकार संभवत: मौलिक अधिकार है, लेकिन कुछ मामलों में इसमें जायज़ पाबंदियां होंगी.

'यू-टर्न और मोदी-शाह की चुप्पी'

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption माकपा नेता सीताराम येचुरी

उनके इस बयान को माकपा नेता सीताराम येचुरी ने सरकार का यू-टर्न कहा है. उन्होंने ट्विटर पर लिखा, "निजता के अधिकार पर सरकार के यू-टर्न की कोशिश वाली सरकारी मूर्खता मोदी और शाह की चुप्पी से और बढ़ गई है."

इमेज कॉपीरइट Twitter/@SitaramYechury

इससे पहले येचुरी ने कहा कि हम आधार को अनिवार्य किए जाने और विदेश तकनीकी कॉरपोरेट्स की ओर से डेटा के ग़लत इस्तेमाल का विरोध करते रहे हैं. यह फ़ैसला हमारे अधिकार को सुरक्षित रखने की राह बनाएगा.

उनसे पहले विपक्षी दलों के नेताओं ने सुप्रीम कोर्ट के फ़ैसले का स्वागत करते हुए केंद्र सरकार के रुख़ के लिए उसकी आलोचना की.

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने कहा कि कांग्रेस और विपक्ष ने एक साथ निजता के अधिकार में कटौती की भाजपा सरकार की कोशिशों के ख़िलाफ़ आवाज़ उठाई थी.

'1947 में मिली आज़ादी समृद्ध हुई'

इमेज कॉपीरइट Getty Images

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने इसे फ़ासीवादी ताक़तों की हार और प्रत्येक भारतीय की जीत बताया था. उन्होंने लिखा था, "सुप्रीम कोर्ट का फ़ैसला फ़ासीवादी ताक़तों के लिए बड़ा झटका है. निगरानी के ज़रिए दमन वाली भाजपाई विचारधारा को ख़ारिज़ किया गया है."

इमेज कॉपीरइट Twitter/@OfficeOfRG

यूपीए के समय वित्त मंत्री रहे कांग्रेस नेता पी चिदंबरम ने ट्विटर पर लिखा, "निजता एक मौलिक अधिकार है. 1947 में जो आज़ादी हासिल की गई थी वो अब समृद्ध और बड़ी हुई है."

इमेज कॉपीरइट Twitter/@PChidambaram_IN

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री और तृणमूल कांग्रेस की अध्यक्ष ममता बनर्जी ने भी इस फ़ैसले का स्वागत करते हुए ट्वीट किया. नेशनल कॉन्फ़्रेंस के नेता उमर अब्दुल्ला ने ट्विटर पर लिखा, "मेरे पास निजता का अधिकार है और यह एक मौलिक अधिकार है."

इमेज कॉपीरइट Twitter/@OmarAbdullah

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने इस पर ट्वीट किया, "शुक्रिया सुप्रीम कोर्ट इस बहुत महत्वपूर्ण फ़ैसले के लिए."

उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और समाजवादी पार्टी के नेता अखिलेश यादव ने ट्वीट किया है, 'निजता के मौलिक अधिकार की सुरक्षा के लिए सुप्रीम कोर्ट का धन्यवाद.'

ओडिशा के मुख्यमंत्री और बीजू जनता दल के अध्यक्ष नवीन पटनायक ने भी फैसले का स्वागत करते हुए इसे निजी आज़ादी और नागरिक स्वतंत्रता की दिशा में बड़ा क़दम बताया है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे