अपनी ही तारीफ़ कर खुद फंसे स्वामी ओम?

स्वामी ओम इमेज कॉपीरइट Facebook

गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट से जुड़ी सारी चर्चा निजता के अधिकार को मौलिक अधिकार करार देने के फ़ैसले से जुड़ी थी लेकिन इसी दिन देश की सबसे बड़ी अदालत में एक और दिलचस्प वाकया हुआ.

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक सुप्रीम कोर्ट ने चीफ़ जस्टिस की नियुक्ति प्रक्रिया को चुनौती देने वाली याचिका दायर करने पर दो लोगों पर 10-10 लाख रुपए का जुर्माना लगाया.

इनमें से एक शख़्स थे रियल्टी शो बिग बॉस से मशहूर हुए स्वामी ओम. चीफ़ जस्टिस जे एस खेहर और जस्टिस डी वाई चंद्रचूड़ ने ये जुर्माना इसलिए लगाया ताकि लोग सस्ती लोकप्रियता के लिए इस तरह की याचिकाएं दायर ना करें.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

लेकिन इस फ़ैसले से कहीं ज़्यादा दिलचस्प रही स्वामी ओम और न्यायाधीशों की बातचीत. इत्तफ़ाक से चीफ़ जस्टिस का कार्यकाल शुक्रवार को ख़त्म हो रहा है.

इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक जब जजों ने स्वामी ओम से पूछा कि उन्होंने ये मामला पहले क्यों नहीं उठाया, तो उन्होंने जस्टिस खेहर से कहा, ''मैं आपकी नियुक्ति होने के वक़्त से ये मामले में विरोध दर्ज करा रहा हूं.''

स्वामी ओम की बात पर अदालत में ठहाके गूंज उठे.

जस्टिस खेहर ने स्वामी ओम की याचिका को लोकप्रियता के लिए किया गया स्टंट बताया तो उन्होंने जवाब में कहा, ''भगवान की कृपा से मुझे पब्लिसिटी स्टंट की ज़रूरत नहीं क्योंकि दुनिया भर में मेरे 50 करोड़ अनुयायी हैं.''

इमेज कॉपीरइट SUPREMECOURTOFINDIA.NIC.IN

उन्होंने ये भी कहा कि वो किसी पर व्यक्तिगत आक्षेप नहीं लगा रहे हैं. इस पर अदालत ने कहा कि अगर वो अपनी दलीलों से उसे संतुष्ट नहीं करते तो उन पर जुर्माना लगाया जा सकता है.

जजों की पीठ ने पूछा कि क्या याचिका दाखिल करने से पहले उन्होंने कोई कानूनी किताब या दस्तावेज़ पढ़ा था, इस पर स्वामी ओम ने कहा, ''मैं कोई वकील नहीं हूं, सामान्य आदमी हूं.''

अदालत ने ये भी जानना चाहा कि उनकी आजीविका का स्रोत क्या है. स्वामी ओम ने बताया कि वो धार्मिक उपदेश देते हैं और उन्हें डोनेशन भी मिलती है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

क्या लोग उनके पास ख़ुद ही आते हैं, स्वामी ने कहा, ''मैं बिग बॉस के शो में रहा हूं. उसके बाद मुझे अपने बारे में बताने की ज़रूरत नहीं पड़ती.''

उनकी बातें और दलीलें सुनने के बाद अदालत ने याचिका ख़ारिज कर दी और स्वामी ओम पर 10 लाख रुपए का जुर्माना भी लगाया.

इस पर स्वामी ओम ने कहा, ''मेरे पास 10 रुपए भी नहीं, मैं 10 लाख रुपए कहां से लाऊंगा.''

जस्टिस खेहर ने कहा, ''आपके 50 करोड़ भक्त हैं. सभी से 1-1 रुपया भी लेंगे तो कितना पैसा हो जाएगा.''

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे