लालू की रैली में निशाने पर नीतीश और बीजेपी

पटना में आरजेडी की "भाजपा भगाओ-देश बचाओ" रैली के दौरान ममता बनर्जी, लालू यादव और अखिलेश यादव इमेज कॉपीरइट PTI
Image caption पटना में आरजेडी की "भाजपा भगाओ-देश बचाओ" रैली के दौरान ममता बनर्जी, लालू यादव और अखिलेश यादव

पटना के गांधी मैदान में राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) ने रविवार को 'भाजपा भगाओ-देश बचाओ' रैली का आयोजन किया. इसमें राज्य के विभिन्न इलाके से बड़ी संख्या में जन समूह पहुंचा. पूरा पटना शहर कार्यकर्ताओं और नेताओं से अटा पड़ा है.

रैली के दौरान बिहार, उत्तर प्रदेश और पश्चिम बंगाल, जम्मू कश्मीर के बड़े नेता एक मंच पर साथ दिखे.

'28 साल के लड़के से डर गए नीतीश कुमार'

तेजस्वी बोले- तब तो मेरी मूंछ भी नहीं निकली थी

इमेज कॉपीरइट PTI

इनमें आरजेडी प्रमुख लालू प्रसाद यादव और उनके बेटे तेजस्वी यादव, कांग्रेस नेता गुलाम नबी आज़ाद, सीपी जोशी, उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव, पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी, जनता दल यूनाइटेड के बागी नेता नेता शरद यादव शामिल हुए.

उनके अलावा राष्ट्रीय लोकदल के उपाध्यक्ष जयंत चौधरी, झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी और हेमंत सोरेन, आरजेडी के वरिष्ठ नेता रघुवंश प्रसाद सिंह, शिवानंद तिवारी, एनसीपी के तारिक अनवर, सीपीआई के डी राजा सहित लालू यादव के परिवार के सदस्य पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी, तेजप्रताप और मीसा भारती समेत और भी कई नेता मौजूद हैं.

इमेज कॉपीरइट TWITTER @yadavtejashwi
Image caption पटना में आरजेडी की महारैली में लाखों की संख्या में पहुंचे लोग

इसके अलावा राज्य के कई नेता, विधायक भी इस रैली में शामिल हो रहे हैं. हालांकि इस महारैली में कांग्रेस पार्टी की अध्यक्ष सोनिया गांधी और उपाध्यक्ष राहुल गांधी शामिल नहीं हुए. इनके अलावा बहुजन समाज पार्टी की मायावती ने भी रैली में शामिल होने से इनकार कर दिया था.

रैली में किसने क्या कहा-

1. आरजेडी सुप्रीमो लालू यादव ने भी अपने भाषण के दौरान केंद्र सरकार और नीतीश कुमार पर हमले किए. उन्होंने कहा, "सृजन घोटाले के क़ागज मेरे पास हैं. ये नीतीश कुमार की अंतिम पलटी है. संघ मुक्त भारत का नारा देते थे, बीमारी का बहाना बनाकर हमसे दूरी बनाई और संघ की गोद में जा बैठे."

"नीतीश को दलितों से नफ़रत है. उनपर हत्या का मुकदमा चल रहा है. नीतीश को सीबीआई छापों की पहले से ख़बर थी. सुशील मोदी को थी घोटालों की जानकारी. मैं नीतीश का सच पहले से जानता था. नीतीश का कोई सिद्धांत नहीं है."

इमेज कॉपीरइट PTI
Image caption रैली के दौरान लालू यादव और शरद यादव गले लगते हुए

2. लालू यादव ने ये भी कहा, "बिहार से एनडीए के सभी नेता मेरे प्रॉडक्ट हैं. शरद यादव ने नीतीश कुमार को मंत्री बनाया. नीतीश को मैंने सींचा था. नीतीश ने राष्ट्रपति चुनाव में धोखा दिया. धोखा नहीं देते तो बिहार की बेटी मीरा कुमार राष्ट्रपति होतीं. नीतीश को मेरे बेटे से जलन थी क्योंकि नीतीश को तेजस्वी यादव से था ख़तरा. मेरी संपत्ति सार्वजनिक हैं."

"आज हमारे साथ 80 विधायक हैं. लोगों ने मेरा चेहरा देख कर वोट दिया. नीतीश ने मुझसे मांगा था एक और कार्यकाल. बिहार में शराबबंदी के बावजूद घर घर में शराब मिल रही है. नीतीश के बारे में पूरा बिहार जान गया है."

3. रैली के दौरान आरजेडी नेता और सूबे के पूर्व उप मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर जम कर निशाना साधा. उन्होंने कहा कि नीतीश हमारे चाचा थे और रहेंगे लेकिन वो अच्छे चाचा नहीं हैं. उन्होंने कहा, "तेजस्वी तो बहाना था, इन्हें सृजन घोटाला छुपाना था."

इमेज कॉपीरइट MANISH SHANDILYA
Image caption लालू यादव की रैली में समाजवादी पार्टी के समर्थक भी पहुंचे

4. जनता दल यूनाइटेड से सांसद शरद यादव ने कहा कि बिहार के लोगों ने महागठबंधन को जनादेश दिया था. उन्होंने ये भी कहा कि मुझे सत्ता का मोह नहीं है और देश स्तर पर महागठबंधन बनेगा.

इमेज कॉपीरइट MANISH SHANDILYA
Image caption हज़ारों की संख्या में आरजेडी समर्थक गांधी मैदान में जमा हुए

5. उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने पटना को ऐतिहासिक धरती क़रार देते हुए कहा कि ये धरती अगर रथ रोक सकती है तो बीजेपी को भी रोक सकती है. उन्होंने ये भी कहा कि तीन साल से ज़्यादा वक्त बीत चुका है, क्या अच्छे दिन आए हैं, ये सरकार को बताना चाहिए.

6. पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा, "काम मन से होता है, भाषणों से नहीं. गरीबों की लड़ाई लड़ते रहेंगे. देश में बेरोजगारी बढ़ी है. अच्छे दिन के नाम पर दलितों और अल्पसंख्यकों पर अत्याचार हो रहा है."

7. बिहार की पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी ने केंद्र और नीतीश कुमार पर एक साथ निशाना साधा. उन्होंने कहा, "दंगाइयों को भगाइये, देश बचाइये. बिहार से नीतीश को भगाएं. पलटू राम पलट गए. रात भर में इनका विवाह हो गया बीजेपी से. नीतीश मर्डर किए हैं. सृजन घोटाला हुआ है. काला नाग हैं ये. इनको बिहार से भगाना है. नीतीश-मोदी खज़ाना चोर, गद्दी छोड़. बिहार की जनता जो कहेगी वो हम करेंगे. हमलोग एक जुट होंगे. कर्पूरी ठाकुर, लोहिया जी के सपने को पूरा करेंगे."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)