क्या बिहार की बाढ़ के लिए नेपाल जिम्मेदार है?

बिहार, बाढ़ इमेज कॉपीरइट DIPTENDU DUTTA/AFP/Getty Images

बाढ़ ने इस साल नेपाल और बिहार में भीषण तबाही मचाई है.

बाढ़ के कारण बिहार में 400 से भी अधिक लोगों की मौत हुई है, तो नेपाल में भी 150 लोग मारे गए हैं.

भारत-नेपाल सीमा के दोनों तरफ इस बात पर बहस तेज़ है कि आखिर बाढ़ का जिम्मेदार कौन है.

टूटी सड़कें, उखड़े पेड़, बंद रेल ट्रैक...यह बिहार की बाढ़ है

'नदी तुम शांत हो जाओ, तुम्हें सोने का हार देंगे'

इमेज कॉपीरइट PRAKASH MATHEMA/AFP/Getty Images

नेपाली मीडिया

सीमा के इस पार रहने वाले बिहारी लोग इसके लिए नेपाल की नदियों और बारिश के दिनों में उनके द्वारा छोड़े जाने वाले पानी को बाढ़ का मुख्य कारण बताते हैं.

वहीं दूसरी ओर नेपाली मीडिया और वहां की सिविल सोसाइटी इससे अलग राय रखती है.

बिहारः बाढ़ से 48 घंटों में 56 लोगों की मौत

बिहार में कब-कब बाढ़ ने मचाई तबाही

इमेज कॉपीरइट AFP/Getty Images

जायज मुद्दे

नेपाली अखबारों में इससे संबंधित कई रिपोर्ट प्रकाशित की जा रही हैं, जिनमें बाढ़ के लिए भारत-नेपाल की जल प्रबंधन नीतियों को जिम्मेदार बताया जा रहा है.

नेपाली अखबार कांतिपुर के पत्रकार शंकर आचार्य मानते हैं कि नेपाल का मीडिया जायज़ मुद्दे उठा रहा है.

बीबीसी से बातचीत में शंकर आचार्य कहते हैं, "भारत ने नो मैंस लैंड से सटे क्षेत्रो में छोटे-बड़े कई बांध बनाए. यह मुद्दा बहुत पहले से नेपाल में चर्चा में रहा है. नेपाली संसद प्रतिनिधि सभा में सांसदों ने इस मुद्दे को उठाया भी है."

ग्राउंड रिपोर्ट: सिलीगुड़ी में फंसे हज़ारों यात्री

कभी गंगा नदी भी थी किसी की ज़मींदारी

इमेज कॉपीरइट SANJAY KANOJIA/AFP/Getty Images

नेपाल की सरकार

वो आगे बताते हैं, "संसद में इस पर चर्चा हुई कि नेपाल सरकार को भारते से कोशी बराज तोड़ने और दूसरे बांधों की उपयोगिता पर चर्चा करनी चाहिए. विपक्षी नेताओं ने प्रधानमंत्री देउबा से बांधों को लेकर भारत सरकार से बातचीत का दबाव भी बनाया था."

दरअसल, भारत और नेपाल की मीडिया इस मुद्दे पर विपरीत राय रखती है.

नेपाल की सीमा पर बसे अंतिम भारतीय शहर रक्सौल के पत्रकार दीपक अग्निरथ बाढ़ के लिए नेपाल की सरकार को जिम्मेदार मानते हैं.

बसाहट और वकालत सड़क पर है आबाद

बिहार: आकाशीय बिजली गिरने से 26 की मौत

इमेज कॉपीरइट AFP/Getty Images

पानी भर जाता है...

उन्होंने बीबीसी से कहा, "बाढ़ दरअसल एक साझा समस्या है. भारत और नेपाल को इस पर तार्किक चर्चा कर उचित जल प्रबंधन नीति बनानी चाहिए. अगर सिर्फ बांधों की वजह से बाढ़ आती, तो फिर सरिसवा या तिलावे जैसी छोटी नदियों मे कैसे पानी बढ़ जाता है."

दीपक अग्निरथ कहते हैं, "इसके कारण भारतीय क्षेत्र में पानी भर जाता है. नेपाल सरकार को चाहिए कि वह चुड़ई पर्वतीय रेंज में पहाड़ों को टूटने से बचाए और पत्थरों के अवैध खनन पर रोक लगाए. बाढ़ की जड़ में यही बात है."

जहां सांपों के साथ जुलूस निकलता है

भारत के सैकड़ों बाढ़ पीड़ित बांग्लादेश में बने शरणार्थी

इमेज कॉपीरइट AFP/Getty Images

तो क्या समस्या सिर्फ यही है?

नेपाली कांग्रेस पार्टी के युवा नेता दिलीप कार्की ने बीबीसी से कहा कि वाल्मीकिनगर में बने गंडक बराज और कोशी पर बने बराज के कारण नेपाल संकट मे है.

बकौल दिलीप कार्की, "जब हमें सिंचाई के लिए पानी की जरूरत होती है तो भारत गंडक नहर में पानी नहीं देता और जब बारिश का मौसम होता है तो वाल्मीकिनगर बराज से इतना पानी छोड़ दिया जाता है कि नेपाल में बाढ़ आ जाए. वे मानते हैं कि तराई इलाके में बाढ़ का कारण भारत में बने बांध हैं."

बाढ़ से बेहाल बिहार की तस्वीरें

कयामत वाली है आज की रात, पानी बढ़ा तो....

इमेज कॉपीरइट AFP/Getty Images

नेपाल मे एकराय नहीं

वहीं नेपाली जनतांत्रिक पार्टी के नेता ओमप्रकाश सर्राफ कहते है कि सिर्फ भारत को जिम्मेदार ठहरा देने से काम नहीं चलने वाला. भारत सरकार नेपाल को अरबों रुपये देती है. देखना यह भी होगा कि क्या उन रुपयों से नेपाल अपना जल प्रबंधन करता है.

बिहार बाढ़: हेलिकॉप्टर को न लाल झंडा दिखा न बीजेपी का झंडा

बाढ़ मेरी दो साल की बेटी को निगल गई..

इमेज कॉपीरइट Ravi Prakash
Image caption नेपाल के अख़बारों में बाढ़ से जुड़ी ख़बरों की सुर्खियां

बाढ़ से संकट

इस बीच बिहार में आई बाढ़ के कारण दिल्ली-काठमांडू राजमार्ग पर (एनएच-28) पर कई दिनों तक आवागमन बाधित रहा.

इस कारण नेपाल में पेट्रोलियम पदार्थो का संकट पैदा हो गया था. नेपाली अखबारों में इसकी कई रिपोर्ट प्रकाशित की गई हैं.

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
बिहार में बाढ़ का ये मंज़र डराने वाला है!

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे