सिरसा: डेरे के भीतर गुस्सा और डर भी

इमेज कॉपीरइट AFP

सिरसा में डेरा सच्चा सौदा के मुख्यालय के पास चप्पे-चप्पे पर पुलिस है और सेना की तैनाती भी की गई है.

पुलिस और प्रशासन ने बाबा राम रहीम के समर्थकों से डेरा खाली करने की अपील की है लेकिन अभी भी वहां बड़ी तादाद में लोग मौजूद हैं.

रविवार को सिरसा में कर्फ्यू में कुछ घंटों के लिए ढील दी गई. इस दौरान बीबीसी की टीम ने डेरा सच्चा सौदा के क़रीब एक हज़ार एकड़ में फैले परिसर का दौरा किया.

बीबीसी का दल पिछले रास्ते से डेरे के अंदर दाख़िल हुआ. डेरे के अंदर अभी भी बड़ी तादाद में लोग मौजूद हैं. इनमें से कुछ डरे हुए हैं जबकि ज़्यादातर प्रशासनिक कार्रवाई को लेकर गुस्से में हैं.

डेरा परिसर में अस्पताल, स्कूल, दुकानें, मॉल और फैक्ट्रियां तक हैं.

राम रहीम या डंडे वाले पीर में क्या कमीं है

ये 7 लोग नहीं होते तो गुरमीत राम रहीम को...

सिनेमाघर में राम रहीम की फिल्में

इमेज कॉपीरइट AFP

यहां एक सिनेमाघर भी हैं जिसमें बाबा राम रहीम की फ़िल्में चल रही हैं. यहां दुकानों पर एमएसजी मार्का के उत्पाद बिक रहे हैं.

डेरा अपने आप में एक पूरा शहर हैं जहां किसी भी शहर की तरह अपनी नागरिक सेवाएं भी हैं.

बीबीसी के दल ने डेरा सच्चा सौदा के मीडिया सेंटर का भी दौरा किया जहां कई स्क्रीनों पर देश और दुनिया के टीवी चैनल चल रहे थे.

एक दल हर मीडिया चैनल की कवरेज पर नज़र रखे हुए था.

डेरे के भीतर के लोगों ने बीबीसी दल के साथ किसी तरह का दुर्व्यवहार नहीं किया लेकिन ये चेतावनी ज़रूर दी कि डेरे के बाहर सुरक्षा की गारंटी वो नहीं लेंगे.

जैसे ही हम मुख्य द्वार से बाहर निकले, उग्र भीड़ ने हमें घेर लिया.

राम रहीम के भक्तों ने गले से उतारे बाबा के लॉकेट

राम रहीम के साथ दिखी लड़की का 'पूरा सच'

हिंसक भीड़ में कुछ समझदार लोग

इमेज कॉपीरइट AFP

ये भीड़ हिंसक रूप अख़्तियार कर रही थी लेकिन जब हमने अपना परिचय दिया और बीबीसी की निष्पक्षता की दुहाई दी तब भीड़ में शामिल कुछ समझदार लोगों ने किसी तरह निकलने में मदद की.

रविवार को भी डेरा सच्चा सौदा परिसर के पास पत्रकारों से मारपीट की गई थी.

जिस तरह के हालात थे, उनमें हमारे साथ भी हिंसा हो सकती थी लेकिन भीड़ में शामिल कुछ लोगों ने हालात को बिगड़ने से बचा लिया और हम वहां से सुरक्षित निकलने में कामयाब रहे.

बीते दो दिनों में बाबा के हज़ारों समर्थक डेरा सच्चा सौदा परिसर से अपने घरों को लौटे हैं.

जो लोग डेरे से निकल रहे हैं उनकी पुलिस गहन तलाशी ले रही हैं ताकि डेरे के भीतर से कोई हथियार लेकर बाहर न आ पाए.

तस्वीरों में: पुलिस क़िले में तब्दील हरियाणा का सिरसा

'प्रधानमंत्री भारत का होता है बीजेपी का नहीं'

मीडिया को लेकर बहुत ज़्यादा गुस्सा

इमेज कॉपीरइट AFP

पुलिस की कड़ी जांच-पड़ताल को लेकर बाबा के समर्थकों में गुस्सा है. जब हमने डेरा समर्थकों से बात करने की कोशिश की तो अधिकतर ने चुप्पी साध ली लेकिन जो हो रहा है उसे लेकर उनका गुस्सा साफ़ नज़र आया.

बाबा के अधिकतर समर्थकों में मीडिया को लेकर बहुत ज़्यादा गुस्सा है. बाबा के समर्थक कहते हैं कि डेरे में सबकुछ बिलकुल ठीक चल रहा है और जो चैनलों पर दिखाया जा रहा है वो सच नहीं है.

बाबा के एक समर्थक कहते हैं, "हमारा शांति का मार्ग है. हमें अपना नाम जपना है, दंगा फ़साद नहीं करना है. किसी संपत्ति को कोई नुक़सान नहीं करना है. नेताओं ने संतों के साथ धोखा किया है."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे