प्रेस रिव्यू: गाय वाले के साथ दिखने पर लाल हुसैन पीटा गया!

गाय के साथ बुजुर्ग, प्रतीकात्मक तस्वीर इमेज कॉपीरइट SANJAY DAS

जम्मू और कश्मीर के जम्मू क्षेत्र में 70 वर्षीय लाल हुसैन पर तथाकथित गौरक्षकों ने हमला किया. लाल हुसैन फिलहाल अस्पताल में भर्ती हैं. हमले के बाद उन्हें मरा जानकर गड्ढे में फेंक दिया गया था. जब वो लोगों को मिले तो बेहोश थे.

'इंडियन एक्सप्रेस' की एक रिपोर्ट के मुताबिक मूल रूप से गुज्जर लाल हुसैन का कहना है कि उनके पास कोई गाय नहीं है. सिर्फ़ दो भैंसे हैं. उनके पास कुछ बकरियां और भेड़ें थी जिन्हें उन्होंने पंद्रह दिन पहले डेढ़ लाख रुपए में बेच दिया था.

शनिवार को जब लाल हुसैन पर हमला हुआ तब वो 'जम्मू एंड कश्मीर बैंक' की बाकोरी शाखा में पेसै जमा कराने ही जा रहे थे. हुसैन कहते हैं, "वो मेरा पैसों का बैग, सेलफ़ोन और शॉल ले गए."

हुसैन के बेटे कहते हैं कि उनकी गलती सिर्फ़ ये थी कि वो एक नौजवान के पीछे चल रहे थे जो गाय के साथ चल रहा था. लोगों ने सोचा होगा कि गाय उनकी है और उन पर हमला कर दिया.

पुलिस के मुताबिक कुलदीप राज नाम के एक युवक को गिरफ्तार किया गया है जबकि हमले में करीब दर्जन भर लोग शामिल थे.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

ब्लू व्हेल गेम ने ली एक और जान

'टाइम्स ऑफ़ इंडिया' की एक रिपोर्ट के मुताबिक उत्तर प्रदेश के हमीरपुर ज़िले में तेरह साल के बच्चे की आत्महत्या के मामले में पुलिस को शक़ है कि बच्चा आत्महत्या के लिए प्रेरित करने वाला ब्लू व्हेल गेम खेल रहा था.

स्थानीय पुलिस अधिकारी ने अख़बार को बताया है कि बच्चा मोबाइल से चिपका रहता था और उसके व्यवहार में आए बदलाव को परिजन समझ नहीं पाए.

रविवार को बच्चे ने अपनी मां से मिठाई बनाने के लिए भी कहा था. आत्महत्या करने वाले बच्चे ने अपने परिजनों से ये भी कहा था कि उनकी जान ख़तरे में हैं.

ब्लू व्हेल एक ऑनलाइन गेम है जिसमें खेलने वालों को चुनौतियां पूरी करने के लिए कहा जाता है. आत्महत्या इसमें अंतिम चुनौती होती है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

स्वाइन फ्लू से विधायक की मौत

'हिंदू' की एक रिपोर्ट के मुताबिक राजस्थान की एक बीजेपी विधायक की मौत स्वाइन फ्लू की वजह से हो गई है.

भीलवाड़ा ज़िले की मंडलगढ़ सीट से विधायक कीर्ति कुमारी की सोमवार को स्वाइन फ्लू की वजह से मौत हो गई. उनका एक निजी अस्पताल में इलाज चल रहा था.

51 वर्षीय कीर्ति कुमारी राजस्थान के बिजोलिया राज परिवार से थीं. बीते महीने बिजोलिया यात्रा के दौरान वो बीमार पड़ गईं थीं.

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
लोगों ने सुनाई उपद्रव की आंखों देखी

पूर्व नियोजित थी बाबा के भक्तों की हिंसा

पुलिस का कहना है कि बीते शुक्रवार डेरा सच्चा सौदा प्रमुख बाबा गुरमीत राम रहीम को दोषी क़रार दिए जाने के बाद हुई हिंसा पूर्व नियोजित थी.

इंडियन एक्सप्रेस की एक रिपोर्ट के मुताबिक पुलिस का मानना है कि पंजाब के बठिण्डा में हिंसा शुरू करने के लिए टमाटर तोड़ दो कोडवर्ड इस्तेमाल किया गया जबकि संगरूर के लिए कोडवर्ड था टसब्जी तैयार है, वर्ताउनी है.'

पंजाब पुलिस ने हिंसा करने की पूर्व नियोजित योजना का पर्दाफ़ाश करने का दावा किया है.

वहीं पंचकुला आए ज़्यादातर भक्तों से कहा गया था कि वहा सत्संग और मुफ्त लंगर होगा और बाबा राम रहीम स्वयं लोगों से मुलाकात करेंगे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)