प्रेस रिव्यू: इस्तीफ़ों का सिलसिला शुरू, जल्द हो सकता है कैबिनेट विस्तार

इमेज कॉपीरइट PRAKASH SINGH/AFP/Getty Images

हिंदी और अंग्रेज़ी के लगभग सभी अख़बारों ने अपने पहले पन्ने पर कैबिनेट में संभावित फेरबदल और मोदी सरकार में मंत्रियों के इस्तीफ़े के बारे में ख़बर छापी है.

साल 2014 में मोदी सरकार के सत्ता में आने के बाद से ये कैबिनेट में होने वाला तीसरा फेरबदल है.

'हिंदुस्तान टाइम्स' के अनुसार केंद्र सरकार कैबिनेट में जल्द ही विस्तार कर सकती है और इसके लिए तैयारियां शुरू हो चुकी हैं.

अख़बार का कहना है कि सरकार के कम से कम आधा दर्जन मंत्रियों ने अपने पदों से इस्तीफ़ा दे दिया है. इस्तीफा देने वालों में कौशल विकास मंत्री राजीव प्रताप रूडी, महेंद्र नाथ पांडे और जल संसाधन राज्य मंत्री संजीव बाल्यान का नाम शामिल है.

अख़बार ने सूत्रों के हवाले से ख़बर दी है कि कलराज मिश्र और उमा भारती समेत और तीन मंत्री भी जल्द ही इस्तीफ़ा दे सकते हैं.

'मोदी के पास कुछ कर दिखाने के सिर्फ़ 16 महीने'

कैबिनेट में फेरबदल से दूर होगा बीजद का असंतोष?

कैबिनेट में तीसरा फेरबदल

इमेज कॉपीरइट Getty Images

अख़बार का कहना है कि तीन से सात सितंबर तक पीएम मोदी ब्रिक्स सम्मेलन में हिस्सा लेने के लिए चीन जा रहे हैं और राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद भी एक सितंबर को तिरुपति जा रहे हैं और शनिवार दोपहर लौटेंगे. ऐसे में संभावना है कि कैबिनेट में फेरबदल की घोषणा दो सितंबर को की जाए.

'द हिंदू' का कहना है कि मोदी रविवार सवेरे चीन के लिए रवाना होंगे और इस कारण शनिवार यानी दो सितंबर को कैबिनेट विस्तार किया जाए.

'दैनिक जागरण' का कहना है कि मथुरा में संघ की बैठक शक्रवार से शुरू होने वाली है जिसके लिए भाजपा प्रमुख अमित शाह को एक दिन वहां जाना होगा. और ऐसे में रविवार यानी तीन सितंबर को कैबिनेट विस्तार हो सकता है.

'मोदी का मुकाबला करने की क्षमता किसी में नहीं'

'मोदी के रास्ते का आख़िरी कांटा निकल चुका है'

विकास दर ने खाया गोता

'जनसत्ता' के पहले पन्ने पर छपी ख़बर के अनुसार देश में सकल घरेलू उत्पाद की वृद्धि दर चालू वित्तवर्ष की पहली तिमाही (अप्रैल-जून 2017) में घटकर 5.7 फ़ीसदी पर आ गई है. ये इसकी तीन साल का निचला स्तर है.

अख़बार का कहना है कि ये लगातार दूसरी तिमाही है जबकि भारत की आर्थिक वृद्धि दर चीन से पीछे रही है. विनिर्माण गतिविधियों में सुस्ती के बीच नोटबंदी का असर कायम रहने से जीडीपी की वृद्धि दर कम रही है.

'इंडियन एक्सप्रेस' के अनुसार अर्थव्यवस्था में कैश की कमी और जीएसटी के लोगू होने के कारण सकल घरेलू उत्पाद की दर 6 फ़ीसद से भी कम हो गई. अख़बार ने उसे बाज़ार की उम्मीदों से कम बताया है.

भारत की विकास दर गिरी, दिखा नोटबंदी का असर

'सरकार ने 21,000 करोड़ खर्च कर 16,000 करोड़ बचाए'

राम रहीम को पद्म पुरस्कार देने की सिफारिश

इमेज कॉपीरइट EPA/STR

'जनसत्ता' अख़बार में छपी एक और ख़बर के अनुसार बलात्कार के आरोप में जेल में बंद डेरा प्रमुख गुरमीत राम रहीम को पद्म पुरस्कार देने के लिए रिकॉर्डतोड़ सिफारिशें आई.

ख़बर के अनुसार साल 2017 में 4200 से अधिक लोगों ने पद्म पुरस्कार के लिए उनके नाम की सिफ़ारिश की जबकि उन्होंने ख़ुद इस सम्मान के लिए पांच बार अपने नाम का प्रस्ताव दिया.

पद्म पुरस्कार 2017 के लिए सिफ़ारिशों या नामित किए जाने वाले लोगों की सूची के अनुसार केंद्रीय गृह मंत्रालय को कुल 18,768 आवेदन मिले थे.

जज ने गुरमीत राम रहीम को कहा 'जंगली जानवर'

'सात कमांडोज़ ने की थी गुरमीत को छुड़ाने की कोशिश'

गायों के लिए अभयारण्य का प्रस्ताव

इमेज कॉपीरइट REUTERS/Carlo Allegri

गृह राज्य मंत्री हंसराज अहीर ने प्रस्ताव दिया है कि गाय की तस्करी के कारण होने वाली हिंसा को रोकने के लिए जंगल की ज़मीन पर गायों के लिए अभयारण्य बनाए जाएं. ये ख़बर छापी है 'इंडियन एक्सप्रेस' ने.

हंसराज अहीर का कहना है कि जिन 16 राज्यों में गोकशी प्रतिबंधित है वहां हर ज़िले में 1000 हेक्टेयर की जंगल की ज़मीन इसके लिए आवंटित की जाए.

अख़बार ने आधिकारिक सूत्रों के हवाले से ख़बर दी है कि इस प्रस्ताव पर आगे बात करने के लिए वो सितंबर में केंद्रीय पर्यावरण मंत्री हर्ष वर्धन से मिलने वाले हैं.

'मरते हैं बच्चे तो मरने दो, गाय थोड़ी है'

इंसानों से ज़्यादा ख़र्च होने पर भी क्यों मर रही हैं गायें?

आधार से पैन लिंक करने की तारीख बढ़ी

इमेज कॉपीरइट NOAH SEELAM/AFP/Getty Images

'द स्टेट्समैन' में छपी एक ख़बर के अनुसार सरकार ने आधार कर्ड को पैन कार्ड से लिंक करने की तारीख बढ़ा 31 दिसंबर तक बढ़ा दी है.

इससे पहले आधार को पैन कार्ड से लिंक करने के लिए आखिरी तारीख 31 सितंबर थी. आयकर विभाग ने कहा था कि जिन लोगों के आधार कार्ड और पैन कार्ड लिंक नहीं हैं, उनके आईटीआर रिटर्न प्रोसेस कर नहीं किए जाएंगे.

विकीलीक्स का दावा ग़लत, 'आधार' डेटा सुरक्षित- सरकार

क्या ख़तरनाक है आपके लिए आधार कार्ड?

ठीक से 'यस मैडम' नहीं कहा तो टीचर ने पीटा

Image caption [फ़ाइल फ़ोटो]

'दैनिक भास्कर' में छपी एक ख़बर के अनुसार लखनऊ के सेंट जॉन विएनी स्कूल में एक टीचर ने तीसरी कक्षा के छात्र को अटेंडेंस के दौरान ठीक से 'यस मैडम' नहीं बोलने पर बुरी तरह पीटा है.

अख़बार का कहना है कि टीचर ने डेढ़ मिनट के भीतर छोटे से बच्चे को करीब 40 से ज़्यादा थप्पड़ जड़े. इस घटना का वीडियो भी सामने आया है जिसके बाद स्कूल की टीचर को निकाल दिया गया है.

अख़बार के अनुसार टीचर ने बच्चे का चेहरा नोच लिया और उसका सिर ब्लैकबोर्ड से टकरा दिया.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे