जापानी पीएम शिंज़ो आबे सीधे गुजरात क्यों आए?

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और शिंज़ो अबे इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption फ़ाइल फ़ोटो

जापान और भारत के संबंधों में काफ़ी परिवर्तन आ रहा है और यह चीन को बिलकुल भी पसंद नहीं है. जापानी प्रधानमंत्री शिंज़ो आबे का दौरा सीधा गुजरात से शुरू हो रहा है जो काफ़ी अहम है क्योंकि वहां 50 जापानी कंपनियां हैं.

जापान के विश्लेषकों के अनुसार जापान गुजरात में काफ़ी कर्ज़ दे रहा है. यह कर्ज़ किसी ख़ास चीज़ के लिए नहीं बल्कि आम चीज़ों के लिए दिया जा रहा है जिसका उद्देश्य यह है कि उनसे जापानी कंपनियों को भी फ़ायदा हो.

इसी कारण गुजरात और बाक़ी भारत में जापान का निवेश काफ़ी बढ़ता हुआ दिखाई दे रहा है. गुरुवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और शिंज़ो आबे अहमदाबाद से मुंबई के बीच बुलेट ट्रेन कॉरिडोर का शिलान्यास करेंगे जो एक फ़ायदेमंद सौदा है.

जिस मस्जिद में मोदी-शिंज़ो पहुंचे, वो क्यों है ख़ास?

उत्तर कोरिया से क्यों और कितना डरे हुए हैं अमरीका-जापान

बुलेट ट्रेन में चलने लायक आमदनी

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption अबे के दौरे के मद्देनज़र अहमदाबाद में होती तैयारियां

लोग कह रहे हैं कि हिंदुस्तान ग़रीब देश है, बुलेट ट्रेन से कोई फ़ायदा नहीं होगा. लोग तो कहते ही हैं लेकिन यह देखने की ज़रूरत है कि मुंबई से अहमदाबाद बिज़नेस के हिसाब से बहुत व्यस्त रूट है.

साथ ही लोगों के पास इतनी आमदनी है कि वह बुलेट ट्रेन में चल सकते हैं. बुलेट ट्रेन से जुड़ने वाली फीडर लाइन इतनी विकसित नहीं हैं लेकिन जैसे ही बुलेट ट्रेन चलनी शुरू होगी वो दिक्कतें भी ठीक हो जाएंगी.

इससे भारतीय कंपनियों को फ़ायदा होने वाला है. उन्हें इससे हाइटेक ट्रेन बनाने की तकनीक मिलेगी.

इस वक़्त जापान में जो कंपनियां हैं वो भारत की ओर देख रही हैं और वहां निवेश करने के बारे में सोच रही हैं. सुज़ुकी ऑटोमेटिक कार मैन्युफैक्चरिंग प्लांट लगाने के लिए तैयार है और उसके लिए पैसा आना भी शुरू हो चुका है.

जापान की नींद उड़ाने वाली मिसाइल

जापान के कारण चीनी मीडिया परेशान

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption पीएम मोदी और शिंज़ो अबे

जापान भारत में इसलिए निवेश कर रहा है क्योंकि पूर्वी और दक्षिणी चीन सागर में वह ख़ुद को असुरक्षित महसूस करता है. इसके अलावा उत्तर कोरिया का सामना कैसे किया जाए, निवेश के पीछे यह सब वजहें भी है ताकि भारत उसके साथ दिखाई दे.

चीनी मीडिया इस दौरे से तिलमिलाया हुआ दिखता है.

चीन के साथ जापान के रिश्तों का इतिहास 1962 से ही ख़राब है. लेकिन जापान के साथ भारत के कभी बुरे रिश्ते नहीं रहे. भारत-जापान के बीच दूसरे विश्व युद्ध की छाया भी नहीं है जबकि चीन और जापान के रिश्ते हमेशा से तवानपूर्ण रहे हैं.

किस भारत के लिए मोदी ला रहे हैं बुलेट ट्रेन?

चीनी राष्ट्रपति भी पहुंचे थे अहमदाबाद

इमेज कॉपीरइट Getty Images

चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग का दौरा भी अहमदाबाद से शुरू हुआ था लेकिन उसका कोई ठोस नतीजा नहीं निकला. लेकिन शिंजो आबे कई बार भारत आ चुके हैं और इसका नतीजा सबके सामने है. चीनी मीडिया इसी बात से ख़फ़ा है.

जापान और भारत के बीच जो ख़ुशी की लहर है वो अच्छी बात है. जापान और भारत के उद्योग में इससे काफ़ी जोश है.

(बीबीसी संवाददाता मोहम्मद शाहिद से बातचीत पर आधारित)

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे