जिन्हें लॉर्ड माउंटबेटन खुद चलकर मेडल देने आए थे

मार्शल अर्जन सिंह इमेज कॉपीरइट Pib

भारतीय वायुसेना के सबसे वरिष्ठ और फ़ाइव स्टार रैंक तक पहुंचे इकलौते मार्शल अर्जन सिंह का शनिवार को निधन हो गया. उन्हें दिल का दौरा पड़ा था जिसके बाद उन्हें दिल्ली के आर्मी अस्पताल में भर्ती कराया गया था.

अर्जन सिंह को 1965 में भारत-पाकिस्तान युद्ध में अहम भूमिका निभाने के लिए याद किया जाता है.

जब लड़ाई शुरू हुई थी तो अर्जन सिंह एयर मार्शल थे. लड़ाई ख़त्म हुई तो उन्हें प्रमोशन देकर मार्शल बनाया गया.

इस युद्ध के दौरान उनका नेतृत्व बेहद दमदार था. उदारहण के तौर पर 1 सितंबर 1965 को जब पाकिस्तान का हमला हुआ, छम में उस वक्त भारतीय आर्मी को काफ़ी दिक्कतों का सामना करना पड़ा.

ऐसे नाकाम हुआ था 1965 का पाकिस्तानी हमला

जांबाज़ भाइयों ने किया था पाकिस्तान की नाक में दम

इमेज कॉपीरइट WWW.BHARATRAKSHAK.COM

भारत-पाक युद्ध के हीरो

आर्मी के पास कोई रिज़र्व फ़ोर्स नहीं थी. उस वक्त के रक्षा मंत्री यशवंत राव चह्वाण ने अर्जन सिंह से कहा कि 'एयर चीफ़ कुछ करो.' अर्जन सिंह ने कहा कि 'आप हुक्म दो तो मैं कुछ करूं.'

मंत्री ने हुक्म दिया तो अर्जन सिंह ने चालीस मिनट में ही पठानकोट से 12 वैम्पायर लड़ाकू विमानों को छम में हमले के लिए तैयार किया. उन्होंने जो हमला हो रहा था उसको रोक दिया.

फिर 3 सितंबर को हवाई युद्ध शुरू हुआ और 6 सितंबर को जब भारतीय सेना ने वाघा बॉर्डर को पार किया तो फिर अगले चौदह दिनों तक भारी लड़ाई हुई जिसमें भारतीय सेना का अहम रोल था. देखा जाए तो उस वक्त उन्होंने काफ़ी अहम भूमिका निभाई थी.

इमेज कॉपीरइट PUSHPINDAR SINGH
Image caption हलवारा एयर बेस पर अदम्य साहस दिखाने वाले विनोद नायब, अर्जन सिंह और बाएं खड़े हैं राठौर.

भुला दिए गए 'लाम' पर गए भारतीय सैनिक

1965: एक सड़क की वजह से शुरू हुई थी लड़ाई

लॉर्ड माउंटबेटन ने किया था सम्मानित

जब वो रिटायर हुए तब भी वो काफ़ी यंग दिखते थे. देश ने उन्हें सम्मान देने के लिए कई देशों में राजदूत बनाया. वो एक बार दिल्ली के लेफ्टिनेंट गवर्नर भी बने.

अर्जन सिंह कहते थे कि जो जंग उन्होंने लड़ी थी वो दूसरे विश्वयुद्ध के दौरान था. जिस वक्त जापान ने हमला किया था, वो इंफाल में वायुसेना के नंबर एक स्क्वॉड्रन हरिकेन के विमानों के जत्थे का नेतृत्व कर रहे थे.

उन्होंने स्क्वॉड्रन हरिकेन के साथ 15 महीने तक लड़ाई में हिस्सा लिया और उन्हें वहीं मैदान पर उनके योगदान के लिए डिस्टिंग्विश्ड फ्लाइंग क्रॉस मिला. लॉर्ड माउंटबेटन मैदान में उनसे मिलने पहुंचे और उनकी छाती पर मेडल लगाया.

वो कहते थे कि बाद में मैं मार्शल बन गया, लेकिन मेरे लिए सबसे बेहतरीन पल वही था जब मुझे 1944 में डिस्टिंग्विश्ड फ्लाइंग क्रॉस मिला था.

1965 युद्ध: न भारत जीता, न पाकिस्तान हारा

इमेज कॉपीरइट PUSHPENDRA SINGH
Image caption 1965 के युद्ध के दौरान भारतीय वायुसेना के प्रमुख अर्जन सिंह और पाकिस्तानी वायुसेना के प्रमुख नूर ख़ान

वो गोल्फ़ खेलना पसंद करते थे. कुछ चार पांच दिन पहले मैं उनसे गोल्फ़ के मैदान में मिला था. हालांकि वो खेलते तो नहीं थे, लेकिन वहां रोज़ आते थे और खिलाड़ियों से मिलते थे.

आर्मी में हम देखते हैं कि दो फ़ील्ड मार्शल थे, एक थे केएम करियप्पा और दूसरे थे सैम मानेकशॉ.

लेकिन एयर फ़ोर्स में एक ही थे, मार्शल अर्जुन सिंह, ये एक बेहद सम्मानजनक पद है.

भारतीय वायुसेना के आधुनिकीकरण का श्रेय भी उनको जाता है. उन्होंने भारतीय वायुसेना को सुपरसोनिक युग में ले गए. उनका ही योगदान है कि आज भारतीय वायुसेना को दुनिया की ताक़तवर वायुसेनाओं में गिना जाता है.

(पुष्पिन्दर सिंह सोसाइटी फ़ॉर एयरोस्पेस सोसायटी के अध्यक्ष और भारतीय वायुसेना के इतिहासकार हैं.)

(बीबीसी संवाददता हरिता कांडपाल से बातचीत पर आधारित.)

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे