परेशान शख़्स को ज्योतिषि ने दी चोरी की सलाह!

दामोदरण इमेज कॉपीरइट Bengaluru city police
Image caption दामोदरण

अमीर बनने की चाहत में ज्योतिष के पास कई लोग जाते हैं. लेकिन उनके बताए रास्ते पर चल कर कोई सलाखों के पीछे भी जा सकता.

सुनने में अजीब है पर बेंगलुरु में ऐसा ही हुआ. सुनहरे भविष्य की चाहत लिए बेंगलुरु के दामोदरण ज्योतिषि कृष्ण राजू के पास पहुंचे.

दामोदरण 42 साल के हैं और जीवन में व्यक्तिगत दिक्कतों से काफी परेशान चल रहे थे. साथ ही दामोदरण को अमीर बनने की भी ख़्वाहिश थी.

जल्द अमीर बनने के लिए वो ज्योतिषि कृष्ण राजू के पास गए थे. ज्योतिषि ने उनकी परेशानी सुनकर उनको एक उपाय सुझाया.

इमेज कॉपीरइट Bengaluru city police
Image caption ज्योतिष कृष्णराजू

ज्योतिषि की सलाह

ज्योतिषि कृष्ण राजू ने उन्हें इलेक्ट्रॉनिक समान चोरी करने का कथित तौर पर सुझाव दिया और कहा कि ऐसा करने से भविष्य में उनको हर तरह की परेशानी से निज़ात मिल जाएगी.

इतना ही नहीं, सुझाव के साथ कृष्ण राजू ने दामोदरण को कथित तौर पर ये भी बताया कि कहां से और कौन से इलेक्ट्रॉनिक समान चुराना है.

दामोदरण जिस कंपनी में काम करता था वो बड़ी मल्टी नेशनल कंपनी को कम्प्यूटर सप्लाई का काम करती थी.

कृष्णराजू ने दामोदरण को कथित तौर पर ये सलाह दी वो अपनी ही कंपनी से कम्प्यूटर मॉनिटर चुरा सकता है. और इससे कोई नुकसान नहीं होगा.

इमेज कॉपीरइट Reuters

दामोदरण का भरोसा

दरअसल पिछले कुछ दिनों में ज्योतिषि कृष्णराजू ने दामोदरण को निजी जीवन की परेशानियों को दूर करने के लिए जितनी भी सलाह दी थी, उन सबसे से दामोदरण के जीवन में काफी फ़र्क पड़ा था.

और इसलिए दामोदरण का विश्वास ज्योतिष कृष्ण राजू पर बढ़ गया था.

दामोदरण ने ही ज्योतिषि कृष्ण राजू को बातों बातों में बताया था कि अगस्त के महीने में उनके ऑफिस में दूसरी मल्टी नेशनल कंपनी में देने के लिए 1000 कम्प्यूटर की खेप आ रही है.

इसलिए भी ज्योतिषि ने दामोदरण को कथित रूप से ऐसी सलाह दी. बस फिर क्या था, दामोदरण ने कुछ भी सोचे बिना ज्योतिष की बात पर अमल कर लिया.

इमेज कॉपीरइट iStock

बेंगलुरु पुलिस

इस काम में उसने अपने साले की भी मदद ली. कम्प्यूटर से भरे ट्रक को बेंगलुरु पहुंचने से पहले ही पकड़ लिया और सारा माल दूसरी ट्रक में भर लिया.

दक्षिण बेंगलुरु के डीसीपी एसडी चरणप्पा ने बताया, "चोरी के बाद में ट्रक को दामोदरण ने ज्योतिषि के दोस्त के घर पर छिपा दिया. बाद में दोनों ने मिल कर सभी कंप्यूटर बेच दिए. इससे जो पैसे मिले उसमें ज्योतिष कृष्ण राजू ने भी अपना हिस्सा लिया."

डीसीपी ने कहा, "पूरे मामले का पता तब चला जब कंपनी ने कंप्यूटर मॉनिटर से भरे ट्रक के गायब होने पर उस ट्रक की खोज शुरू की."

पुलिस को दामोदरण के पास से दस लाख रुपए नक़द मिले. साथ ही अलग अलग व्यापारियों को बेचे 671 मॉनिटर भी बरामद किए.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे