क्या भारत में खाने की बर्बादी है भुखमरी का बड़ा कारण?

खाना खाता बच्चा इमेज कॉपीरइट Getty Images

भुखमरी के मामले में भारत की स्थिति गंभीर है. गुरुवार को जारी ग्लोबल हंगर इंडेक्स में ये बात सामने आई है.

दुनियाभर के विकासशील देशों में भुखमरी की समस्या पर इंटरनेशनल फूड पॉलिसी रिसर्च इंस्टीट्यूट की रिपोर्ट में भारत 119 देशों में से 100वें पायदान पर है.

भारत- बांग्लादेश और नेपाल जैसे देशों से भी पीछे है. रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत में बाल कुपोषण से स्थिति और बिगड़ी है.

दरअसल हंगर इंडेक्स दिखाता है कि लोगों को खाने की चीज़ें कैसी और कितनी मिलती हैं.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

फिर खाने की बर्बादी क्यों?

एक और जहां भारत भूख की गंभीर समस्या से जूझ रहा है, वहीं दूसरी और देश में बड़े पैमाने पर खाने की बर्बादी की जाती है.

खाने की बर्बादी भुखमरी का एक अहम कारण है. संयुक्त राष्ट्र के आंकड़ों के मुताबिक भारत में 40 फ़ीसदी खाना बर्बाद हो जाता है. इन्हीं आंकड़ों में कहा गया है कि यह उतना खाना होता है जिसे पैसों में आंके तो यह 50 हज़ार करोड़ के आसपास पहुंचेगा.

आंकड़ों पर ना भी जाएं, तो भी हम रोज़ाना अपने आस-पास ढेर सारा खाना बर्बाद होते हुए देखते ही हैं. शादी, होटल, पारिवारिक और सामाजिक कार्यक्रमों, यहां तक की घरों में भी कितना खाना यू हीं फेंक दिया जाता है.

अगर ये खाना बचा लिया जाए और ज़रूरतमंदों तक पहुंचा दिया जाए तो कई लोगों का पेट भर सकता है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

संयुक्त राष्ट्र की एक रिपोर्ट के मुताबिक भारत में खाने का पर्याप्त उत्पादन होता है, लेकिन ये खाना हर जरूरतमंद तक नहीं पहुंच पाता.

भूख से पीड़ित दुनिया की 25 फ़ीसदी आबादी भारत में रहती है. भारत में करीब साढ़े 19 करोड़ लोग कुपोषित हैं.

इसमें वो लोग भी हैं जिन्हें खाना नहीं मिल पाता और वो लोग भी हैं जिनके खाने में पोषण की कमी होती है.

कैसे रोकें खाने की बर्बादी?

खाने की बर्बादी रोकने के लिए हर इंसान को व्यक्तिगत रूप से ज़ागरुक होने की ज़रूरत है. जितना खाना है उतना ही लें. अगर घर में खाना बच जाता है तो अपने आस-पास किसी ज़रूरतमंद को दें.

शादी, पार्टी, होटल में भी ऐसा ही किया जा सकता है, वैसे कई संस्थाएं ऐसी हैं जो लोगों का बचा हुआ खाना एकत्रित करके उसे ज़रूरतमंद लोगों तक पहुंचाने का दावा करती हैं.

ऐसी ही एक संस्था रॉबिन हुड आर्मी को शुरू करने वाले संचित जैन बताते हैं कि दिल्ली की एक शादी में बचे खाने से कई बार पांच सौ से ढाई हज़ार लोगों का पेट भर जाता है.

सप्लाई सिस्टम में खामी

संचित जैन खाने की चीज़ों की बर्बादी की वजह सप्लाई चेन का कमज़ोर होना बताते हैं. वो कहते हैं खेतों से अनाज निकलकर मंडी तक तो पहुंच जाता है, लेकिन भंडारण की सुविधाएँ अच्छी नहीं होने और समय पर आगे सप्लाई नहीं किए जाने की वजह से मंडियों में ही सड़ जाता है.

"सप्लाई चेन में खामी के चलते कई बार खाने की चीज़ों के दाम बढ़ जाते हैं."

इमेज कॉपीरइट Getty Images

कहां जाता है बचा खाना?

रॉबिन हुड आर्मी का दावा है कि वे होटलों से एकत्रित किया हुआ खाना झुग्गी-झोपड़ी में रहने वाले लोगों तक पहुंचाते हैं.

वैसे सच्चाई यही है कि गैर-सरकारी संस्थाओं के अलावा सरकार भी कई बार खाने की बर्बादी पर चिंता जता चुकी है.

हाल ही में जब केंद्रीय खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्री हरसिमरत कौर बादल अमरीका गईं तो वहां उन्होंने भारत में खाने की बर्बादी रोकने को सरकार की प्राथमिकता बताया.

हालांकि आम लोगों की कोशिशों से भी तस्वीर बदल सकती है. इसी साल अगस्त महीने में चेन्नई की एक महिला ईसा फातिमा जैसमिन ने एक ऐसी कोशिश शुरू की है जिससे खाने की बर्बादी कम हो रही है और गरीबों का पेट भी भर रहा है.

इमेज कॉपीरइट FACEBOOK/THE PUBLIC FOUNDATION

उन्होंने चेन्नई के बेसेंट नगर में एक 'कम्युनिटी फ्रिज़' लगवाया है. इस फ्रिज़ में आस पास के आम लोग और होटल के कर्मचारी बचा हुआ खाना लाकर रखते हैं. जिसका इस्तेमाल ज़रूरतमंद लोग अपनी भूख मिटाने के लिए करते हैं.

हालांकि ऐसी कोशिशों का दायरा सीमित जगह तक ही देखने को मिल पाता है. अगर सभी जगहों पर बचे हुए खाने का समुचित प्रबंध हो तो करोड़ों लोगों का पेट भर सकता है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)