नज़रिया: 'बीजेपी के पास अब कोई बहाना नहीं बचा'

योगी इमेज कॉपीरइट SANJAY KANOJIA/AFP/Getty Images

भारतीय जनता पार्टी उत्तर प्रदेश के नगर निकाय चुनाव जीत गई है.

16 में से 14 मेयर की सीट बीजेपी के खाते में गई हैं वहीं बाक़ी दो सीट पर मायावती की बहुजन समाज पार्टी ने जीत दर्ज की है.

पहले से केंद्र और राज्य (उत्तर प्रदेश) में सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी के लिए इस जीत के क्या मायने हैं?

इस जीत का 2019 में होने वाले लोकसभा चुनाव पर कैसा असर पड़ेगा? यह जानने के लिए हमने वरिष्ठ पत्रकार शरत प्रधान से बात की. पढ़िए उनका आकलन-

योगी अपनी रणनीति में कामयाब हो रहे हैं?

नज़रिया- योगी योगी क्यों कर रहा है मीडिया?

इमेज कॉपीरइट SANJAY KANOJIA/AFP/Getty Images
Image caption फ़ाइल फ़ोटो

आज तक स्थानीय निकाय चुनाव कभी इस पैमाने पर लड़े नहीं गए. इन चुनावों को इस स्केल पर ले जाने का श्रेय बीजेपी को जाता है. वैसे भी उनको आदत है कि वो हर चीज़ को इतने बड़े स्केल पर ले जाते हैं.

इसमें इनको एक फ़ायदा यह था कि इन्हें इस बात का भरोसा था कि वे स्वीप करने जा रहे हैं चुनाव, और लगभग वैसा ही हो गया.

उसके पीछे कई कारण हैं. सबसे बड़ा कारण ये है कि जो विपक्षी पार्टी हैं उनका कोई भी रोल इस चुनाव में लगभग नज़र नहीं आया.

समाजवादी पार्टी, जो सबसे बड़ी पार्टी थी, जिससे उम्मीद थी कि वो सबसे बड़ी चुनौती देगी भारतीय जनता पार्टी को, वो शुरू से ही धराशायी हो गई.

उसकी वजह क्या हो सकती है ये किसी की समझ में नहीं आ रहा है. तरह तरह की बातें हैं. कुछ कॉन्सपिरेसी थ्योरी भी हैं. कहते हैं साहब, अखिलेश यादव की कोई डील हो गई योगी आदित्यनाथ से.

लेकिन यह तय है कि अखिलेश यादव ने इस चुनाव में एक दिन भी प्रचार न करके ये साबित कर दिया कि वे लड़ाई अपने घर में तो लड़ सकते हैं लेकिन बाहर मैदान में उतर कर, विधानसभा चुनाव में इतनी बड़ी हार के बाद, अब उनमें हिम्मत नहीं रही है कि वे ज़मीनी स्तर पर आकर अपने पिता की तरह तेवर दिखाएं और मैदान में लड़ाई लड़ सकें.

योगी की सरकार में अपने ही क्यों हैं ख़फ़ा?

'मोदी के लिए चुनौती नहीं अवसर हैं योगी'

इमेज कॉपीरइट SANJAY KANOJIA/AFP/GETTY IMAGES

समाजवादी पार्टी ने कमज़ोर उम्मीदवार उतारे?

इसका फ़ायदा पूरा का पूरा बीजेपी को मिला क्योंकि कई जगह ऐसी थी जहां समझा ये जाता है और समाजवादी पार्टी की अंदरूनी सर्किल में भी यही समझा जाता है कि समाजवादी पार्टी कई जगह चुनाव में चुनौती दे सकती थी और जीत भी सकती थी.

लेकिन उन स्थानों पर उन्होंने ऐसे-ऐसे डमी उम्मीदवार खड़े कर दिए जिसकी वजह किसी की समझ में नहीं आ रही.

ऐसे-ऐसे उम्मीदवार खड़े किए गए जिनका पार्टी से कोई लेना-देना नहीं है. जिनका समाजवाद से कोई लेना-देना नहीं है. जिनका राजनीति से लेना-देना नहीं है तो ज़ाहिर है कि एक तरह का वॉकओवर दे रहे थे.

क्यों दे रहे थे, ये भगवान जाने.

बसपा से ज़्यादा उम्मीद नहीं थी इस चुनाव में. क्योंकि बसपा कभी भी इससे पहले ये चुनाव अपने सिंबल पर नहीं लड़ती थी.

उनके लोगों को इजाज़त दी जाती थी कि वो जाकर निजी तौर पर अपने-अपने सिंबल पर लड़ें लेकिन पहली दफ़ा ऐसा हुआ कि मायावती ने ये चुनाव अपने पार्टी सिंबल पर लड़ा.

मेरा मानना है कि बीजेपी को बाई डिफ़ॉल्ट बहुत सी जगह जीत मिली है. क्योंकि कोई अपोज़िशन था ही नहीं.

इसी तरह बसपा को भी इसलिए मिल गई क्योंकि ऐसा सुनने में आ रहा है कि कई जगह समाजवादी पार्टी के पारंपरिक वोटर ने भी बसपा के उम्मीदवार को वोट डाल दिया क्योंकि उसे लगा कि बसपा का उम्मीदवार बेहतर है.

विवादित बयानों वाले योगी आदित्यनाथ

नज़रिया: क्या योगी बन पाएंगे मोदी?

इमेज कॉपीरइट Getty Images

वोट डालने भी नहीं पहुंचीं मायावती

कांग्रेस का जहां तक सवाल है उससे तो किसी को कोई उम्मीद नहीं थी और वो नाउम्मीदी नतीजों में दिख भी गई.

किसी भी पार्टी का कोई बड़ा नेता कहीं इस चुनाव में सड़क पर नहीं दिखा. सिवाय भाजपा के जिनका पूरा मंत्रिमंडल, योगी आदित्यनाथ खुद कमान संभाले हुए थे इस चुनावी अभियान की. बड़े-बड़े नेता भी आते-जाते रहे.

आप सोचिए कई बड़े नेताओं की वोटर लिस्ट लखनऊ में है. दूसरी पार्टी के जैसे मायावती और उनकी पार्टी के सतीश मिश्रा दोनों का लखनऊ में वोट है, लेकिन वे दोनों वोट डालने तक नहीं आए.

इसी तरह यह नहीं पता कि समाजवादी पार्टी के कौन से नेताओं ने वोट डाला क्योंकि वे निकले ही नहीं थे घर से बाहर.

वहीं भाजपा के केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह अपनी पत्नी के साथ बाक़ायदा लखनऊ आए वोट डालने.

इससे यह पता लगता है कि उन्होंने पूरे जोश के साथ, पूरी ताक़त के साथ और पूरे समर्पण के साथ यह चुनाव लड़ा.

फ़ायदा उनको सबसे बड़ा यह मिला कि मैदान खाली था. कोई दूसरा लड़ने वाला ही नहीं था जैसे.

उत्तर प्रदेश निकाय चुनाव 2017: जानें 10 बातें

इमेज कॉपीरइट AFP

क्या समाजवादी पार्टी बिखर गई है?

समाजवादी पार्टी में कार्यकर्ता तो बचे हैं लेकिन नेतृत्व करने वाला, हौसला बढ़ाने वाला नहीं दिखता है. अगला चुनाव लोकसभा का है और लोकसभा चुनाव में वैसे भी समाजवादी पार्टी से बहुत ज़्यादा उम्मीद नहीं रखी जा सकती.

पिछली बार उनका प्रदर्शन काफ़ी खराब रहा था और लोकसभा में उनके लिए कुछ भी कर पाना निहायत ही मुश्किल काम है.

इस चुनाव से 2019 के लोकसभा चुनाव का माहौल बनना शुरू हो जाएगा क्योंकि आज की तारीख़ में आप इसकी फ़्लिप साइड देखिए कि बीजेपी की सरकार केंद्र से लेकर, प्रदेश से लेकर निचले स्तर तक हो गई है.

अब जब स्थानीय प्रशासन भी बीजेपी का हो जाएगा तो बीजेपी को ज़मीनी स्तर पर कुछ करके दिखाना होगा.

उनको मौक़ा मिलेगा करने का और अगर कुछ नहीं करते हैं तो इसका उन्हें नुक़सान हो सकता है 2019 में. इसलिए उम्मीद है कि वाक़ई में उन्हें ग्राउंड पर कुछ करना पड़ेगा.

सपा के पास कोई ग्राउंड ही नहीं बचा है जिस पर कोई काम करके दिखा सके. जो पहले अखिलेश ने किया था असेम्बली में, उसका फ़ायदा भी नहीं उठा पाए.

ये बड़ा दुर्भाग्यपूर्ण है कि लोकतंत्र में विपक्ष का वजूद ही न बचे क्योंकि उन्होंने ख़ुद ही अपने आप को निष्क्रिय बना लिया.

इमेज कॉपीरइट SANJAY KANOJIA/AFP/Getty Images

काम नहीं किया तो पासा पलट भी सकता है

अब बीजेपी की जवाबदेही बढ़ जाएगी, अब इनके पास कोई बहाना नहीं रहेगा. पिछली बार भी इनके दस जगह मेयर थे लेकिन इनके काउंसलर्स बहुत कम होते थे तो ये कह देते थे कि हमारे पास हाउस का समर्थन नहीं है.

लेकिन आज की तारीख़ में इनके पास भरपूर बहुमत हर स्तर पर आ गया है. कल ये यह नहीं कह पाएंगे कि हमारे पास कमी है, न ही ये कह पाएंगे कि सरकार दूसरी है और हमें फ़ंड नहीं मिल रहा, या केंद्र सरकार हमें सहयोग नहीं दे रही.

अब बीजेपी की जवाबदेही बढ़ जाएगी. ये बहुत बड़ी चुनौती होगी. अगर वाक़ई कुछ करके नहीं दिखाया तो 2019 में ये पासा पलट भी सकता है.

(वरिष्ठ पत्रकार शरत प्रधान के साथ बीबीसी संवाददाता संदीप सोनी की बातचीत पर आधारित)

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)