अय्यर के घर हुई बैठक ट्रैक 2 डिप्लोमेसी थी?

भारत पाकिस्तान इमेज कॉपीरइट Getty Images

भारत और पाकिस्तान के बीच सरकारी स्तर पर बातचीत बंद है. हाल ही में कांग्रेस नेता मणिशंकर अय्यर के घर पाकिस्तान के कुछ अधिकारी और भारत के पूर्व उपराष्ट्रपति और पूर्व प्रधानमंत्री के बीच हुई मुलाक़ात ने काफी सुर्खियां बटोरीं.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भारतीय जनता पार्टी ने इस मुलाक़ात पर सवाल उठाए और आरोप लगाए कि गुजरात चुनावों पर इसमें बातें हुई थीं.

इस बैठक में भारत के पूर्व सेना अध्यक्ष दीपक कपूर भी मौजूद थे. हालांकि उन्होंने इस बात से इनकार किया कि मुलाक़ात में गुजरात पर कोई बात हुई थी.

बैठक में मौजूद रहे पाकिस्तान के पूर्व विदेश मंत्री ख़ुर्शीद महमूद कसूरी ने कहा है कि वे भारत-पाक के बीच चलने वाली ट्रैक-2 डिप्लोमेसी में लंबे समय से जुड़े रहे हैं और दोनों देशों के बीच सुलह के पक्षकार हैं.

राजनीतिक मामलों के जानकार कहते हैं कि दोनों मुल्कों के अधिकारियों, नेताओं के बीच अनौपचारिक मुलाक़ातें असल में कूटनीति का हिस्सा होती हैं और इन अनौपचारिक बैठकों को ट्रैक टू डिप्लोमेसी कहते हैं.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption पाकिस्तान के पूर्व विदेश मंत्री ख़ुर्शीद महमूद कसूरी

क्या होती है ट्रैक-2 डिप्लोमेसी?

दो देशों के बीच आपसी संवाद कायम करने के लिए सरकारी स्तर से इतर जो बातचीत या मुलाक़ातें की जाती हैं उन्हें ट्रैक-2 डिप्लोमेसी कहा जाता है.

इस तरह की कूटनीति में सांस्कृतिक मुलाक़ातें, कार्यक्रम, पत्रकारों की बातचीत, पूर्व मंत्रियों या अधिकारियों की बातचीत आदि शामिल होती है.

भारत की तरफ़ से ट्रैक-2 डिप्लोमेसी का हिस्सा रह चुके वरिष्ठ पत्रकार वेद प्रताप वैदिक इस संबंध में बताते हैं, ''जिन दो देशों के बीच आपसी रिश्ते होते हैं उनके कुछ प्रतिनिधि हमेशा मिलते जुलते रहते हैं, कई मौकों पर ये मुलाक़ातें औपचारिक नहीं होतीं या आसान शब्दों में कहें तो ये गोपनीय होती हैं, इन्ही को ट्रैक-2 डिप्लोमेसी कहा जाता है.''

वैदिक बताते हैं, ''आमतौर पर यह बातचीत सरकार की कोशिशों से ही सफल होती है. दो देशों के प्रधानमंत्री इसके लिए अपनी सहमति देते हैं.''

''हालांकि ट्रैक-2 डिप्लोमेसी का प्रचार प्रसार नहीं किया जाता न ही मीडिया को इसके बारे में ज़्यादा कुछ बताया जाता है.''

इमेज कॉपीरइट Getty Images

कितना महत्व?

जब दो देशों के बीच आपसी बातचीत बंद हो और कई तरह के विवाद बने हों, ऐसे वक्त में ट्रैक-2 डिप्लोमेसी कितनी ज़रूरी हो जाती है.

इस संबंध में वैदिक बताते हैं, ''दोनों देशों के वे लोग इस डिप्लोमेसी का हिस्सा होते हैं जो तमाम विवादों के जानकार होते हैं, जिनका उन देशों में आपसी संबंध ख़राब होने के बावजूद व्यक्तिगत संबंध या सम्मान बहुत ज़्यादा होता है.''

''कई मौकों पर ट्रैक-2 डिप्लोमेसी ट्रैक-1 डिप्लोमेसी से ज़्यादा महत्वपूर्ण हो जाती है, क्योंकि औपचारिक बातचीत को सभी के सामने रखना होता है लेकिन अनौपचारिक बातें ज़्यादा आसानी से हो जाती हैं और लगभग सभी देश इस तरह की डिप्लोमेसी करते हैं, चाहे वे उत्तर कोरिया और रूस हो या चीन और अमरीका हो.''

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption भारत के पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति आसिफ़ अली ज़रदारी के साथ (फाइल फोटो)

इन मुलाक़ातों में किन मुद्दों पर बातचीत होती है?

प्रधानमंत्री ने आरोप लगाए थे कि मणिशंकर अय्यर के घर हुई बैठक में गुजरात चुनाव के सिलसिले में बातचीत हुई थी. तो क्या सचमुच इस तरह की अनौपचारिक मुलाकातों में किसी देश के भीतरी मुद्दों पर चर्चा होती है.

इस बारे में वैदिक बताते हैं, ''भारत और पाकिस्तान के बीच जब ट्रैक-2 डिप्लोमेसी के तहत बातचीत होती है तो सबसे ज़रूरी मुद्दा कश्मीर होता है, इसके अलावा पानी के मसले पर भी बात होती है, साथ ही मोस्ट फेवर्ड नेशन के मसले पर भी बातचीत की जाती है.''

वे आगे बताते हैं, ''मैंने ऐसी ही एक बैठक में मध्य एशिया तक जाने के लिए पाकिस्तान के जरिए रास्ता दिए जाने की बात रखी थी, इसके अलावा पाकिस्तान की तरफ से मुंबई में स्थित जिन्ना हाउस को लौटाने की बात और वीज़ा नियमों को आसान बनाने की बात होती है.''

''कभी-कभी वे हमारे देश में होने वाले सांप्रदायिक दंगों पर बात करते हैं तो हम भी उनके देशों में चलने वाले चरमपंथी अड्डों को बंद करने की बात उठाते हैं.''

इमेज कॉपीरइट Getty Images

औपचारिक बातचीत का रास्ता खुलता है?

भारत और पाकिस्तान के बीच सरकारी स्तर पर बातचीत बंद है ऐसे में दोनों देशों के रिश्ते सुधारने में ट्रैक-2 डिप्लोमेसी का कोई रास्ता हो सकता है.

वैदिक का कहना है,''ये किसी भी देश के लिए बहुत ज़रूरी होती है, लेकिन हमारे प्रधानमंत्री खुद ही ट्रैक-2 पर उतर आते हैं.''

''ट्रैक-2 डिप्लोमेसी में पक्ष या विपक्ष किसी भी दल के लोग शामिल हो सकते हैं. लेकिन वर्तमान सरकार में ऐसी बातचीत करने वाले लोगों की कमी है. ऐसे में यह सरकार पाकिस्तान के साथ बेहतर बातचीत कर सकेगी यह समझना मुश्किल लगता है.''

वैदिक के अनुसार इंदिरा गांधी और राजीव गांधी के वक्त ट्रैक-2 डिप्लोमेसी बहुत बेहतर रही, ''राजीव गांधी जब प्रधानमंत्री पद पर नहीं थे तब भी पाकिस्तान के साथ बेहतर रिश्तों की कोशिश करते रहते थे.''

इमेज कॉपीरइट Getty Images

हालांकि वैदिक का कहना है कि मणिशंकर अय्यर के घर हुई बैठक कोई ट्रैक-2 डिप्लोमेसी का हिस्सा नहीं थी.

उन्होंने बताया, ''पाकिस्तान के पूर्व विदेश मंत्री ख़ुर्शीद महमूद कसूरी भारत में किसी निजी कार्यक्रम में हिस्सा लेने आए थे और इसी दौरान वे मणिशंकर अय्यर के घर मुलाक़ात के लिए भी गए थे.''

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)