जय शाह, रफ़ाल घपले पर चुप क्यों मोदी: राहुल गांधी

मोदी और राहुल इमेज कॉपीरइट Getty Images,twitter

गुजरात और हिमाचल प्रदेश चुनाव में बीजेपी ने कांग्रेस को शिकस्त दी है. इस शिकस्त के बाद पीएम मोदी समेत बीजेपी नेता गर्वीले भाषणों में कांग्रेस को कोसते नज़र आ रहे हैं.

चुनावी हार के बार पहली बार राहुल गांधी मंगलवार को मीडिया के सामने आए.

राहुल ने कहा, ''इस चुनाव नतीजे के बारे में मोदी ने बोला है कि विकास और जीएसटी पर मुहर है. लेकिन अपने चुनावी भाषणों में मोदी ने नोटबंदी, विकास और जीएसटी पर मुहर की कोई बात नहीं की थी. मोदी जी की विश्वसनीयता पर सवाल है. मोदी के साथ विश्वसनीयता की दिक्कत है.''

राहुल के इस बयान पर केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने ट्वीट किया, ''जनता चुनावों में कांग्रेस को लगातार झटके दे रही है. विकास को पागल कहने वाले विकास के मॉडल को कैसे समझेंगे. हताशा और निराशा में कुछ भी बोल रहे हैं.''

इमेज कॉपीरइट TWITTER

पढ़िए राहुल गांधी के भाषण की 5 खास बातें

  • मोदी की सोच को उनका संगठन रिपीट कर रहा है लेकिन देश उसे नहीं मान रहा है. देश ये जानना चाहता है कि मोदी ने भ्रष्टाचार की बात बिना रुके की. रफ़ाल और जय शाह के मामले में मोदी के मुंह से एक शब्द क्यों नहीं निकलता. जय शाह अमित शाह के बेटे हैं. तीन महीने में पचास हजार को 80 हजार करोड़ रुपये बना दिए गए. रफ़ाल में घपला हुआ.
  • कहा जाता था कि कांग्रेस पार्टी बीजेपी से लड़ नहीं सकती. तीन चार महीने सिर्फ मैंने नहीं, बल्कि गुजरात कांग्रेस और कार्यकर्ताओं ने कड़ी मेहनत की. इसका रिजल्ट आपने देखा है कि बीजेपी को जबरदस्त झटका मिला है. मुझे इस दौरान पता लगा कि मोदी के मॉडल को गुजरात के लोग मानते नहीं हैं.
  • प्रौपेगेंडा बहुत अच्छा है. मार्केटिंग बहुत अच्छी है लेकिन अंदर से वो खोखला है. हमारे चुनावी अभियान का बीजेपी जवाब नहीं दे पाई. विकास की बात तो कर रहे हैं लेकिन इनके पास जवाब नहीं है. आपने देखा होगा कि चुनाव होने से पहले बीजेपी के पास अपने बारे में बताने के लिए कुछ नहीं था.
  • हां हम जीत सकते थे लेकिन हार गए, थोड़ी कमी रह गई होगी. लेकिन मेरा आज बस ये संदेश है कि एक राजनेता जाता है, जैसे मैं गुजरात गया. गुजरात और गुजरात के लोगों ने मुझे बहुत कुछ सिखाया है. सबसे खास बात ये सिखाई है कि चाहे आपका विपक्ष हो या जिससे आपकी लड़ाई हो, उसके पास जितना भी पैसा, क्रोध हो, उसको आप प्यार और भाईचारे से टक्कर दे सकते हैं. ये बात गांधीजी ने पहले देश को सिखाया था. शायद ये बात गुजरात के लोगों के अंदर है.
  • गुजरात ने मोदी और बीजेपी को मैसेज दिया है कि ये आपके अंदर का क्रोध आपके काम नहीं आएगा और इसको प्यार हरा देगा. ये संदेश गुजरात के लोगों ने दिया. मैं गुजरात और हिमाचल के लोगों को शुक्रिया कहना चाहूंगा और जीतने वालों को बधाई देता हूं.

'मोदी की सियासी चुनौतियाँ तो अब शुरू होंगी'

मोदी ने रातोंरात यूं बदला मतदाताओं का मिज़ाज

'एक दफा गद्दार कहने की बीमारी शुरू हो जाए तो...'

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)