दोषी ठहराए जाने के बाद इस तेवर में बोले लालू

लालू यादव इमेज कॉपीरइट NEERAJ SINHA

चारा घोटाले में रांची की विशेष अदालत से दोषी क़रार दिए जाने के बाद बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और आरजेडी प्रमुख लालू यादव ने तीखी प्रतिक्रिया दी है. अदालत के फ़ैसले के बाद लालू के ट्विटर अकाउंट एक के बाद एक कई ट्वीट किए गए.

लालू ने अपने पहले ट्वीट में कहा, ''संगठित हमले और पक्षपातपूर्ण प्रचारतंत्र से सच को झूठ की तरह पेश किया जा सकता है या उसे संदिग्ध बनाया जा सकता है. लेकिन चाहे जो हो जाए भेदभाव और द्वेष का जो मलिन आवरण है वो छंटेगा. आख़िरकार सत्य को ही जीत मिलती है.''

चारा घोटाले में लालू यादव दोषी, हिरासत में लिए गए

क्या है बिहार का चारा घोटाला?

मुसीबतों के बवंडर से निकल पाएँगे लालू यादव?

लालू ने अपने दूसरे ट्वीट में कहा, ''धूर्त भाजपा अपनी जुमलेबाज़ी और कारगुज़ारियों को छुपाने और वोट प्राप्त करने के लिए विपक्षियों का पब्लिक पर्सेप्शन बिगाड़ने के लिए राजनीति में अनैतिक और द्वेष की भावना से ग्रस्त गंदा खेल खेलती है. झूठे जुमले बुनने वालों सच अपनी ज़िद पर खड़ा है. धर्मयुद्ध में लालू अकेला नहीं पूरा बिहार साथ खड़ा है.''

लालू ने अपने अगले ट्वीट में कहा, ''शक्तिशाली और ताक़तवर वर्ग हमेशा समाज को शासक और शासित वर्ग में बांटने में कामयाब रहता है. जब कोई निचले तबके से अन्यायपूर्ण सिस्टम को चुनौती देता है तो उसे जानबूझकर सज़ा दी जाती है.''

लालू ने कहा, ''नेल्सन मंडेला, मार्टिन लूथर किंग, बाबा साहेब आंबेडकर अपनी कोशिशों में नाकाम रहे थे और इतिहास ने उनके साथ खलनायक की तरह व्यवहार हुआ. ये अब भी भेदभाव करने वालों, नस्लवादियों और जातिवादी मानसिकता वालों के लिए खलनायक हैं. हमें किसी से अच्छे व्यवहार की उम्मीद नहीं करनी चाहिए.''

लालू ने एक और ट्वीट में कहा, ''ऐ सुनो कान खोल कर, आप इस गुदडी के लाल को परेशान कर सकते हों, पराजित नहीं. सामंतीवादी ताक़तों, जानता हूँ- लालू तुम्हारी राहों का काँटा नहीं आँखों की कील है. पर इतनी आसानी से नहीं उखाड़ पाओगे. ना ज़ोर चलेगा लाठी का लालू लाल है माटी का.''

उन्होंने अपने अगले ट्वीट में कहा, ''साथ हर बिहारी है, अकेला सब पर भारी है, सच की रक्षा करने को, लालू का संघर्ष जारी है. मरते दम तक सामाजिक न्याय की लड़ाई लड़ता रहूँगा. जगदेव बाबू ने गोली खाई, हम जेल जाते रहते है, लेकिन मैं झुकूँगा नहीं. लड़ते-लड़ते मर जाऊँगा लेकिन मनुवादियों को हराऊँगा.''

लालू ने ट्विटर पर लोगों से अपील करते हुए कहा, ''देश के न्यायप्रिय और शांतिप्रिय साथियों हर षड्यंत्र से बचना होगा. हर हाल में लड़ना होगा. विजयपथ पर चलना होगा. जय हिंद.''

वहीं बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने अदालत के फ़ैसले से सहमति जताते हुए लालू प्रसाद पर निशाना साधा है. सुशील मोदी ने ट्वीट कर कहा, ''जो बोया वो पाया! बोया पेड़ बबूल का तो आम कहाँ से होई. यह तो होना ही था. चारा घोटाले में मैं भी एक याचिकाकर्ता था और इसी वजह से पटना हाई कोर्ट की निगरानी में सीबीआई जांच शुरू की गई थी.''

सुशील मोदी ने कहा, ''पूरा परिवार भ्रष्टाचार में लिप्त है. चाहे वो चारा घोटाला हो या बेनामी संपत्ति. लालू जेल इसलिए गए क्योंकि शिवानंद, ललन सिंह और मैने याचिका दाखिल की थी लेकिन वही शिवानंद आज लालू का बचाव कर रहे हैं.''

लालू यादव के छोटे बेटे और बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने भी अपने पिता के समर्थन में ट्वीट किया है. उन्होंने कहा, ''लालू जी जिस वर्ण और ग़रीबी में पैदा हुए और जिस संघर्ष के दम पर सत्ता के स्थापित गलियारों को अपने दमख़म से हिलाया वहीं सबसे बड़ा घोटाला है और उसी की सज़ा भुगत रहे हैं. समझें!''

तेजस्वी ने दूसरे ट्वीट में कहा, ''सभी पार्टी कार्यकर्ताओं से अपील करता हूँ कि वो शांति बनाए रखते हुए न्यायालय के फ़ैसले का सम्मान करें. सत्य को कोई नहीं हरा सकता. हमारी जीत होगी और ज़रूर होगी. अपना प्रेम और विश्वास बनाए रखें. जय बिहार, जय हिंद.''

वहीं राष्ट्रीय जनता दल के वरिष्ठ नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री रघुवंश प्रसाद सिंह ने कहा है अदालत के फ़ैसले पर कहा, ''जगन्नाथ को बेल, लालू को जेल यही है खेल. लड़ेंगे आख़िरी दम तक.''

वहीं समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक लालू प्रसाद यादव को रांची के बिरसा मुंडा जेल में रखा जा सकता है.

बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

मिलते-जुलते मुद्दे