प्रेस रिव्यूः सुब्रमण्यम स्वामी का आरोप, जीडीपी के अच्छे आंकड़े मोदी सरकार के दबाव में

सुब्रमण्यम स्वामी इमेज कॉपीरइट Getty Images

इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक भारतीय जनता पार्टी के नेता और राज्यसभा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने शनिवार को आरोप लगाया कि केंद्रीय सांख्यिकी संगठन यानी सीएसओ के वरिष्ठ अधिकारियों पर दबाव था कि वे जीडीपी के अच्छे आंकड़े दिखाएं जिससे ये दिखे कि नोटबंदी का अर्थव्यवस्था और जीडीपी ग्रोथ पर नकारात्मक असर नहीं पड़ा.

अख़बार के मुताबिक अहमदाबाद में एक कार्यक्रम में चार्टर्ड अकाउंटेंट्स को संबोधित करते हुए स्वामी ने कहा, "कृपया जीडीपी के तिमाही आंकड़ों पर न जाएं, वे सब फ़र्जी हैं. मैं आपसे कह रहा हूँ, क्योंकि मेरे पिता ने सीएसओ की स्थापना की थी.....हाल रही में मैं केंद्रीय मंत्री सदानंद गौड़ा के साथ वहाँ गया था....उन्होंने सीएसओ के अधिकारी को बुलाया, क्योंकि नोटबंदी को लेकर अच्छे आंकड़े दिखाने का दबाव था. इसलिए उन्होंने ऐसे आंकड़े जारी किए, जिससे दिखे कि नोटबंदी का कोई असर नहीं था."

उन्होंने कहा मैं नर्वस महसूस कर रहा था क्योंकि मैं जानता था कि असर तो हुआ है. इसलिए मैंने सीएसओ के डायरेक्टर से पूछा, "आपने इस तिमाही के लिए जीडीपी के आंकड़े कैसे जारी किए, जबकि नोटबंदी तो नवंबर (2016) को हुई थी और आपने आर्थिक सर्वेक्षण की रिपोर्ट फरवरी 2017 में प्रकाशित की, यानी प्रकाशन के लिए ये रिपोर्ट कम से कम तीन हफ्ते पहले गई होगी. तो आपने जनवरी 2017 में रिपोर्ट पेश की और आपने बता दिया कि नोटबंदी का कोई असर नहीं हुआ. आपने इसकी गणना कैसे की?"

स्वामी ने रेटिंग एजेंसियों की रिपोर्ट पर भी सवाल उठाते हुए कहा, "इन मूडी और फिच की रिपोर्ट्स पर यकीन मत कीजिए. आप उन्हें पैसे देकर किसी भी तरह की रिपोर्ट प्रकाशित करवा सकते हैं."

मूडी ने हाल ही में भारत की क्रेडिट रेटिंग बढ़ाई थी. रेटिंग में ये इजाफा 13 साल बाद किया गया था.

इमेज कॉपीरइट SANJEEV MATHUR

इंडियन एक्सप्रेस की एक ख़बर के अनुसार, गुजरात के हालिया चुनावों में जीत हासिल करने वाले दलित नेता जिग्नेश मेवाणी, पेशवा सेना पर जीत हासिल करने की 200वीं सालगिरह के आयोजन में शामिल होने महाराष्ट्र जाएंगे.

एक जनवरी 1818 में ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कंपनी के सिपाहियों ने पेशवा बाजी राव द्वीतीय की तीन गुनी बड़ी सेना को हरा दिया था.

अंग्रेज़ों ने पुणे के पास इस ऐतिहासिक लड़ाई की याद में जयस्तंभ बनवाया है.

हर साल माहाराष्ट्र में कोरेगांव के इस युद्ध के उपलक्ष्य में बड़े पैमाने पर समारोह आयोजित किए जाते हैं.

इमेज कॉपीरइट AFP

द स्टेट्समैन की एक ख़बर के अनुसार, शनिवार को एलओसी के पास रजौरी में पाकिस्तान की ओर से हुई भारी गोलीबारी में भारत के एक मेज़र और तीन जवान मारे गए. जबकि एक जवान बुरी तरह घायल हो गया है.

सेना ने बयान जारी कर कहा है कि पाकिस्तानी सैनिकों ने बिना उकसावे के एक गश्ती दल पर गोलीबारी शुरू कर दी थी.

द हिंदू की एक ख़बर के अनुसार, हिमाचल प्रदेश में मुख्यमंत्री की दौड़ में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा सबसे आगे चल रहे हैं.

अख़बार के अनुसार, धूमल दौड़ से बाहर हो गए हैं और फैसले पर अंतिम मुहर लगाने के लिए रविवार को एक बैठक होनी है.

संभवत: सोमवार को शपथग्रहण समारोह का आयोजन होगा.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

टाइम्स ऑफ़ इंडिया की एक ख़बर के मुताबिक, भारत के 21 राज्यों के 153 ज़िलों में रहने वाले क़रीब 24 करोड़ लोग ख़तरनाक आर्सेनिक स्तर वाला पानी पीते हैं.

ये आंकड़ा एक सवाल के जवाब में जल संसाधन मंत्रालय ने लोकसभा को बताया है. इसके अनुसार, असम की 65 प्रतिशत आबादी आर्सेनिक प्रदूषित पानी पीती है जबकि पश्चिम बंगाल और बिहार में ये संख्या 44 और 60 फ़ीसदी है.

लेकिन आबादी के लिहाज से सबसे अधिक प्रभावित राज्य है उत्तर प्रदेश जहां सात करोड़ आबादी ये ज़हरीला पानी पीने को मज़बूर है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)