नज़रिया: 'जेल में रहें या बेल पर, लालू की सियासी हैसियत हाशिये पर नहीं'

लालू यादव, आरजेडी इमेज कॉपीरइट RAVEENDRAN/AFP/Getty Images

लालू यादव जेल में हों या बेल पर हों, अब लगता नहीं कि इस कारण बिहार में उनकी सियासी हैसियत हाशिये पर चली जाएगी.

कोई अन्य कारण उन पर भारी पड़ जाएँ तो बात अलग है.

चारा घोटाले के ही एक अन्य मामले में लालू यादव का सज़ायाफ़्ता होना उनकी सियासत के लिए नुक़सानदेह कहाँ साबित हुआ?

राज्य विधानसभा में उन्हीं की पार्टी राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) के सदस्यों की संख्या सबसे ज़्यादा है.

चुनाव लड़ने से प्रतिबंधित लालू अपने जनाधार को फिर से अपने पक्ष में सक्रिय करके दिखा चुके हैं.

'पूस के ठंड में ऊ जेल में, यह नहीं सहा जाएगा'

क्रोसना चूहे का स्वाद याद है आपको, लालू जी?

इमेज कॉपीरइट Twitter @laluprasadrjd

सियासी विरासत

यानी चारा घोटाले में जेल या सज़ा के बुरे असर को बेअसर करने में वो कामयाब हुए.

इतना ही नहीं, एक बार और सत्ता का मौक़ा हाथ में आते ही लालू यादव ने अपने पुत्र तेजस्वी यादव को उपमुख्यमंत्री बनवा लिया.

इस तरह तेजस्वी को अपने उत्तराधिकारी के रूप में सियासी विरासत सौंपना आज उनके काम आ रहा है.

लालू अब इसलिए भी ज़्यादा चिंतित नहीं हैं कि उनकी ग़ैरमौजूदगी में आरजेडी को नेतृत्व देने जैसा मसला नहीं रहा.

वैसे भी पिछली बार की तरह देर-सबेर ज़मानत उन्हें मिल ही जाएगी. तबतक तेजस्वी की थोड़ी और ट्रेनिंग हो जाएगी.

चारा घोटाले में लालू यादव दोषी, हिरासत में लिए गए

दोषी ठहराए जाने के बाद इस तेवर में बोले लालू

इमेज कॉपीरइट Twitter @laluprasadrjd

आरजेडी के हक़ में...

पार्टी के वरिष्ठ नेता रघुवंश प्रसाद सिंह, जगतानंद और अब्दुल बारी सिद्दीक़ी सब संभाल लेंगे, ऐसा भरोसा ख़ुद लालू प्रसाद ज़ाहिर कर चुके हैं.

लेकिन उनके भरोसे की सबसे ख़ास वजह कुछ और ही है.

बिहार के मौजूदा सियासी हालात ऐसे बने हैं कि यादव-मुस्लिम समीकरण वाली वही पुरानी युगलबंदी फिर से आरजेडी के हक़ में उभार पर दिख रही है.

यहाँ के अधिकांश यादवों और मुसलमानों में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के प्रति उफनता हुआ रोष किसी से छिपा नहीं है.

इसलिए समझा जाता है कि चारा घपले के सिलसिले में लालू यादव को आठवीं बार जेल भेजा जाना उनके समर्थक वर्ग को प्रभावित नहीं करेगा.

चारा घोटाला: लालू पर क्या हैं आरोप, कितने मुक़दमे?

दागी नेताओं के लिए फ़ास्ट ट्रैक कोर्ट, किसे है एतराज़

इमेज कॉपीरइट Twitter @laluprasadrjd

अदालती फ़ैसला

दरअसल, राजनीति अब ऐसी हो गई है कि भ्रष्टाचार जैसे आपराधिक मामले में जेल जाना नेताओं में कोई शर्मिंदगी पैदा नहीं करती.

इनकी जेल यात्रा को समर्थकों के हुजूम द्वारा शोभा यात्रा की शक्ल में बदलते देखा गया है.

चाहे मामला गंभीर भ्रष्टाचार का ही क्यों न हो, सियासत का कमाल देखिये कि इसे विरोधियों की साजिश, निर्दोष को फँसाने या बदले की भावना वग़ैरह बता कर माहौल अपने अनुकूल बनाने की कोशिशें शुरू हो जाती हैं.

इसी मामले में अगर ग़ौर करें तो पाएँगे कि लालू यादव और उनकी पार्टी के तमाम नेता एक अदालती फ़ैसले का रुख़ दूसरी तरफ़ मोड़ने में जुट गये हैं.

मुसीबतों के बवंडर से निकल पाएँगे लालू यादव?

बिहार की सियासत में किसने दी लालू को संजीवनी

इमेज कॉपीरइट Twitter @laluprasadrjd

लालू विरोधी चाल

ज़ोर-शोर से कहा जा रहा है कि यह बीजेपी की लालू विरोधी चाल और जातीय द्वेष का नतीजा है.

ज़ाहिर है कि बुनियादी सच को आसमानी झूठ के बूते हवा में उड़ाने वाली राजनीति प्राय: तमाम राजनीतिक दलों की फ़ितरत-सी हो गयी है.

इसमें बीजेपी, कांग्रेस या कोई भी दल अपवाद हो, ऐसा बिलकुल नहीं है.

संबंधित अदालती फ़ैसले में पूर्व मुख्यमंत्री जगन्नाथ मिश्र को राहत दिया जाना भी आरजेडी का एक सवालिया नारा बन गया है.

'मिश्रा को बेल तो लालू को जेल क्यों?' स्पष्ट है कि आरजेडी इस नारे को उछाल कर पिछड़ों के बीच अपने आधार को और पुख़्ता करना चाह रही है.

श्रीकृष्ण सिंह जयंती पर बढ़ा बिहार में सियासी पारा

'नीतीश कुमार यू-टर्न की राजनीति के मास्टर हैं'

इमेज कॉपीरइट Twitter @laluprasadrjd

चारा घोटाला

उधर बीजेपी नेतृत्व और उसके दोबारा मित्र बने नीतीश कुमार का पूरा प्रयास है कि घोटाले में सज़ा का भी फ़ायदा उठाने में जुटे लालू ख़ेमे का पर्दाफ़ाश किया जाय.

इसलिए चारा घपले की पूरी पृष्ठभूमि खोल कर इसमें लालू के कई वर्तमान सहयोगियों को लपेटने वाले बयान बीजेपी की तरफ़ से आ रहे हैं.

तो कुल मिला कर क़िस्सा यही है कि चारा घोटाले से जुड़ी इस ताज़ा मुसीबत का कोई ख़ास असर लालू या बिहार की राजनीति पर फ़िलहाल नहीं दिखता.

लेकिन हाँ, बेनामी संपत्ति से जुड़े मामलों में लालू परिवार की उत्तरोत्तर बढ़ती जा रही मुश्किलें आरजेडी के अंदरूनी हालात पर भारी पड़ सकती हैं.

क्योंकि तब इसमें लालू से ज़्यादा उनके उत्तराधिकारी तेजस्वी का भविष्य दाँव पर होगा.

'लालू की राजनीतिक हैसियत पहले जैसी नहीं रही'

बदनामी के बावजूद लोकप्रिय क्यों हैं लालू यादव

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे