सरकार ने दी गाय, खिलाड़ियों ने लौटाई क्यों?

गाय के साथ बॉक्‍सर साक्षी इमेज कॉपीरइट Manoj Dhaka
Image caption गाय के साथ बॉक्‍सर नीतू

हरियाणा में रोहतक की तीन महिला मुक्‍केबाजों ने हरियाणा के कृषि मंत्री ओमप्रकाश धनखड़ से पुरस्‍कार स्वरूप मिलीं गाय वापस कर दी हैं.

हरियाणा की भाजपा सरकार ने पिछले साल नवंबर में राष्ट्रीय चैम्पियनशिप में मेडल जीतने वाली महिला बॉक्सरों को इनाम में गाय दी थी. पर ये गाय इन के परिवार के लिए आफत बन गईं.

मुश्किल इतनी बढ़ गई है कि तीन महिला बॉक्सरों ने गाय राज्य सरकार को वापस कर दी हैं. ये नीतू, ज्योति और शशि हैं. चौथी खिलाड़ी इसे लौटाने की तैयारी कर रही है.

अनुपमा से फोन पर बताया कि उनकी गाय ठीक से दूध नहीं दे रही. अनुपमा के मुताबिक ने बताया कि उनके घर में गाय आने के बाद दस हज़ार का चारा खरीदा लेकिन वो अभी तक हर रोज़ महज़ तीन किलो दूध ही दे रही है. वो अपनी गाय लौटाने पर विचार कर रही हैं.

जब खिलाड़ियों को इनाम में मिला घी, गाय और अनाज

'अंग्रेज दीदी' की गौशाला में हैं 1200 गायें

इमेज कॉपीरइट Manoj Dhaka
Image caption बॉक्‍सर ज्योति गुलिया के पिता मामन सिंह ने ज्योति को मिली गाय लौटा दी है

बीते साल 19 नवंबर से लेकर 26 नवंबर तक असम के गुवाहाटी में वर्ल्‍ड यूथ वूमेन बॉक्सिंग चैंपियनशिप हुई थी. इसमें छह बॉक्सरों ने मेडल जीते थे.

भिवानी के गांव धनाना की नीतू ने 48 किलोग्राम, साक्षी ने 54 किलोग्राम, रोहतक के रूड़की की ज्योति गुलिया ने 51 किलोग्राम और हिसार की शशि चोपड़ा ने 57 किलोग्राम वर्ग में स्वर्ण पदक हासिल किया था.

वहीं पलवल की अनुपमा ने 81 किलोग्राम वर्ग में और कैथल की नेहा यादव ने 81 से अधिक किलोग्राम वर्ग में कांस्य पदक जीता था.

गाय से घरवाले हुए ज़ख्मी

गाय पाने वाली महिला बॉक्सरों का कहना है कि ये गाय दूध नहीं देती, उल्टे उनके घरवालों को ज़ख्मी कर देती हैं.

ज्योति गुलिया ने कहा कि जब सरकार ने उन्हें गाय दी तो पांच दिनों तक उनकी मां रोशनी ने गाय की सेवा की. वो कहती हैं, "दूध की बात तो दूर, गाय ने हमारे परिवार पर तीन बार हमला कर दिया."

ट्रांसजेंडर बॉक्सर जो मर्दों पर भारी पड़ती हैं

स्क्रीनशॉट ने करा दिया बॉक्सर आमिर का तलाक़

इमेज कॉपीरइट Manoj Dhaka

ज्योति ने कहा, "गाय के हमले में मेरी मां रोशनी घायल हो गई, इसके बाद हमने तुरंत गाय वापस कर दी. हम भैंस के साथ ही अच्छे हैं."

चैंपियनशिप में जीतने वाली बॉक्सरों के सम्मान में राजीव गांधी खेल स्टेडियम में साईं नेशनल बॉक्सिंग अकेडमी की तरफ से 29 नवंबर को समारोह का आयोजन किया गया.

समारोह में कृषि मंत्री ओपी धनखड़ ने इन छह बॉक्सरों को देसी गायें देने की घोषणा की. उन्होंने कहा था, "गाय के दूध से जहां सुंदरता आती है, वहीं बुद्धि भी तीव्र हो जाती है."

लेकिन कुछ दिन बाद ही नीतू, ज्योति गुलिया और शशि चोपड़ा ने उन्हें मिली गाय लौटा दीं. इनका कहना है कि गाय के हमले से उनके घरवाले कई बार जख्मी हो गए हैं.

मां बेचती हैं सब्ज़ी और बेटी इंटरनेशनल बॉक्सर

चीनी बॉक्सर का विजेंदर से लड़ने से इनकार

इमेज कॉपीरइट Manoj Dhaka

ज्योति गुलिया के पिता मामन सिंह ने बताया, "सरकारी लोग हमारे घर गाय लेकर आए. उन्होंने बताया कि हरियाणा सरकार ने गाय भेजी है. हम चंडीगढ़ से गाय लेकर आए हैं. हमें पता नहीं था कि गाय कहां से आई है."

"चार-पांच दिन के बाद भी गाय ने दूध नहीं दिया. ज्योति की मां को हाथ में चोट लग गई. फिर हमने उनको वापस फोन किया तो उन्होंने बताया कि गाय तो रोहतक की खुराना डेरी से आई है. डेरी वाले से बात की तो उन्होंने बताया कि वो गाय वापस ले जाएंगे."

'मुक्के बरसाकर जीते मेडल तो बदली लोगों की सोच'

'अच्छी नस्ल की गाय दी थीं'

इमेज कॉपीरइट Manoj Dhaka
Image caption साक्षी का कहना है कि उनकी गाय रोज़ाना सात-आठ किलो दूध देती है और वो फिलहाल गाय लौटाने के बारे में नहीं सोच रही हैं.

खुराना डेयरी के संचालक राजीव खुराना ने बताया कि हरियाणा सरकार ने उनसे छह गाय खरीदी हैं जिनकी कीमत 40 से 50 हज़ार रुपए तक है.

उन्होने बताया, "हमने सभी को हरियाणा की अच्छी नस्ल की गाय बेची है. सभी हमारे पास अच्छे से दूध दे रही थी. बस एक गाय के मामले में बच्चा मरने के बाद दूध नहीं आ रहा."

"हमने तीन गाय वापस ली हैं और खिलाड़ियों से कहा है कि वो डेयरी में आकर गाय पसंद करें, दूध निकाल कर देख लें और उसके बाद ही यहां से गाय लेकर जाएं."

इस मामले में हरियाणा के कृषि मंत्री ओमप्रकाश धनखड़ ने कहा, "हमने गाय इनाम के तौर पर भेजी थीं. अगर खिलाड़ियों को गाय पसंद नहीं आई तो वो हरियाणा की देसी नस्ल की गाय पूरे प्रदेश में कहीं से खरीद सकते हैं."

उनका कहना है, "बिल हमारे पास भेज दिया जाए और गाय की पेमेंट सरकार करेगी."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे