कश्मीर: हत्या के ख़िलाफ़ उग्र प्रदर्शन

सुरक्षाकर्मी
Image caption कश्मीर में सुरक्षाबलों के ख़िलाफ़ गुस्सा बढ़ता जा रहा है

जम्मू-कश्मीर की राजधानी श्रीनगर में एक युवक की हत्या के विरोध में उग्र प्रदर्शन हो रहे हैं.

कई जगहों पर प्रदर्शनकारियों और पुलिस के साथ झड़पें हुई हैं जिनमें कुछ लोग घायल हुए हैं. पुलिस ने आँसू गैस के गोले छोड़े हैं लेकिन इसका कोई असर नहीं पड़ा है.

बुधवार सुबह इस्लामिया कॉलेज के छात्र असरार मुश्ताक का शव बरामद किया गया. वह तीन जुलाई से लापता था और उसके घर वालों का कहना था कि जम्मू-कश्मीर पुलिस के आतंकवाद निरोधक दस्ते ने उसे पकड़ लिया है.

मुश्ताक का शव पाए जाने की ख़बर फैलते ही पूरे श्रीनगर में लोग सड़कों पर निकल आए और प्रदर्शन करने लगे.

शव अभी भी पुलिस के क़ब्ज़े में है. लोगों का कहना है कि सुरक्षाबलों ने मुश्ताक की हत्या की है.

उग्र भीड़ ने पुलिस के एक वाहन को जला दिया और जहां-तहां पथराव करने लगे. देखते ही देखते सड़कों और गली मोहल्लों में सुरक्षाबलों और लोगों के बीच झड़पें होने लगी.

दुकानदारों ने अपनी दुकानें बंद कर दी है. अतिरिक्त पुलिस बलों की तैनाती की गई है लेकिन इसके बावजूद लोग डटे हुए हैं.

प्रशासन के ख़िलाफ़ गुस्सा

श्रीनगर की घटना पिछले दो महीनों में कोई अकेली घटना नहीं है. इससे पहले शोपियाँ में दो महिलाओं के साथ बलात्कार और फिर उनकी हत्या के मामले ने गंभीर रूप धारण कर लिया था और वहां घटना के चालीसवें दिन आज भी स्थितियाँ सामान्य नहीं हुई हैं.

इस मामले में भी सुरक्षाबलों को ज़िम्मेदार ठहराया गया और अब जाँच चल रही है.

इसके बाद हाल ही में बारामुला में एक महिला ने सुरक्षाबलों पर छेड़छाड़ का आरोप लगाया था जिसके बाद व्यापक हिंसा हुई और चार लोग मारे गए.

इस बीच अनंतनाग ज़िले से लापता हुआ लड़का बशारत अहमद वापस घर लौट आया है. उसका कहना है कि सेना ही उसे उठा कर ले गई थी. इस मामले की जांच भी चल रही है.

इन घटनाओं से लोगों में इसी साल मुख्यमंत्री बने उमर अब्दुल्ला के ख़िलाफ़ काफ़ी आक्रोष है.

संबंधित समाचार