अक्षरधाम मंदिर मामले में हुई गिरफ़्तारी

पुलिस (फाइल फोटो)
Image caption हैदराबाद के आतंकवाद निरोधक दस्ते ने शौकतुल्ला को गिरफ़्तार किया है.

आंध्र प्रदेश की आतंकवाद निरोधक पुलिस ने गुजरात के अक्षरधाम मंदिर पर हुए हमले के मामले में हैदराबाद में एक गिरफ़्तारी की है.

पुलिस ने हैदराबाद अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट से शौकतुल्ला गौरी नामक एक व्यक्ति को गिरफ़्तार किया है. पुलिस के अनुसार इसका संबंध संबंध गुजरात के अक्षरधाम मंदिर में 2002 में हुए हमलों से है.

शौकतुल्ला कथित रुप से आतंकवादी संगठन लश्कर ए तैयबा से जुड़ा हुआ है और खाड़ी देशों के बाहर संगठन का प्रतिनिधि है.

हालांकि शौकतुल्ला के परिवार इन आरोपों से बिल्कुल इंकार किया है.

हैदराबाद के पुलिस आयुक्त बी प्रसाद राव के अनुसार शौकतुल्ला के ख़िलाफ़ हैदराबाद में कोई मामला लंबित नहीं है लेकिन गुजरात की एक अदालत ने उनके ख़िलाफ़ आंतकवाद निरोधक क़ानून के तहत गिरफ़्रतारी के वारंट जारी किए है.

शौकतुल्ला के बारे में पुलिस को खुफ़िया जानकारी मिली थी कि वो सऊदी अरब से वापस लौट रहे हैं जिसके बाद एयरपोर्ट के पास सुरक्षा व्यवस्था कड़ी कर दी गई.

एयरपोर्ट के बाहर शौकतुल्ला को गिरफ़्तार किया गया और एक गाड़ी में ले जाया गया. शौकतुल्ला के चार बच्चों और उनकी पत्नी शाइन को दूसरी गाड़ी में ले जाया गया. शाइन के अनुसार बैग की तलाशी के दौरान पुलिस को एक लाख रुपए का ड्राफ्ट और उनकी बेटी का स्कूल सर्टिफ़िकेट मिला था. शाइन और बच्चों को पुलिस ने घर जाने दिया है.

शौकतुल्ला हो जल्दी ही गुजरात पुलिस अपने कब्ज़े में ले लेगी.पुलिस का कहना है कि शौकतुल्ला के ख़िलाफ़ 2004 से ही वारंट लंबित है लेकिन उनकी पत्नी शाइन के अनुसार जब वो दो साल पहले हैदराबाद आए थे तो पुलिस ने कुछ नहीं किया था.

गुजरात के गांधीनगर शहर में अक्षरधाम मंदिर पर हुए हमले में 30 लोगों की मौत हो गई थी और कमांडो आपरेशन के दौरान लश्कर के दो चरमपंथी मारे गए थे.जांच के दौरान शौकतुल्ला का नाम भी सामने आया था.

इस मामले में गिरफ़्तार तीन लोगों को गुजरात की पोटा अदालत ने मृत्युदंड की सज़ा सुनाई है जबकि बाकी दस को आजीवन कारावास.

शौकतुल्ला के भाई फ़रतुल्लाह गौरी की भी हैदराबाद पुलिस को आतंकवाद के कई मामलों में तलाश है.