'अजमल क़साब ने जुर्म क़बूल किया'

अजमल क़साब
Image caption क़साब ने ख़ुद जज के सामने जुर्म क़बूल किया.

मुंबई हमलों के मामले की सुनवाई के दौरान मुख्य अभियुक्त मोहम्मद अजमल आमिर क़साब ने अपना जुर्म क़बूल कर लिया है.

मुंबई की विशेष अदालत में इस मामले की सुनवाई के दौरान सोमवार को क़साब ने अचानक जज के सामने जुर्म क़बूल कर लिया.

अभियोजन पक्ष की ओर से सरकारी वकील उज्जवल निकम ने पत्रकारों को इस बारे में जानकारी देते हुए कहा, "हम सभी स्तब्ध रह गए. वह अचानक उठा और जज से कहने लगा कि उसे सारे जुर्म क़बूल हैं."

उनका कहना था, "आठ मई को हमने अजमल क़साब के ख़िलाफ़ सुनवाई शुरु की. हम गवाह से जिरह करने वाले थे. उसी वक़्त क़साब खड़ा हुआ और उसने कहा, "मुझे अपना जुर्म क़बूल है".

सरकारी वकील ने कहा कि क़साब ने अब तक की सुनवाई के दौरान इक़बालिया बयान देने की बात नहीं की थी, इसलिए जज ने क़साब को टोकते हुए पूछा, तुम क्या करना चाहते हो? इस पर क़साब का कहना था कि वह हमलों में शामिल होने के आरोप स्वीकार करता है.

'बड़ी जीत'

इसे एक बड़ी जीत बताते हुए उज्जवल निकम ने कहा, "अभियोजन पक्ष ने 134 गवाहों से पूछताछ की जिससे मामला साफ़ होने लगा था. इसी बीच पाकिस्तान में भी जाँच एजेंसी ने कोर्ट में कह दिया कि क़साब उनका नागरिक है. इसके बाद क़साब के पास कोई और चारा नहीं था."

इसके बावजूद उनका कहना था कि अभियोजन पक्ष इस बात की जाँच करेगा कि क़साब पूरा सच क़बूल करता है या नहीं.

उज्जवल निकम के मुताबिक क़साब ने अभियोजन पक्ष की ओर से पेश किए गए सीसीटीवी फुटेज और बाक़ी अन्य सबूतों को भी मान लिया.

पिछले साल 26 नवंबर की रात चरमपंथियों ने मुंबई के भीड़-भाड़ वाले छत्रपति शिवाजी टर्मिनल स्टेशन, ताज होटल, ट्राइडेंट-ऑबराय होटल और नरीमन हाउस पर हमले किए थे.

इन हमलों में 170 से ज़्यादा लोग मारे गए थे और लगभग ढाई सौ लोग घायल हुए थे.

हमलावरों में मोहम्मद अजमल क़साब जीवित पकड़ा गया और बाकी नौ मारे गए.

संबंधित समाचार