गेट्स को इंदिरा गांधी पुरस्कार

माइक्रोसॉफ़्ट के सह संस्थापक बिल गेट्स को इंदिरा गाँधी शांति, निशस्त्रीकरण और विकास पुरस्कार दिया गया है.

Image caption राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल ने पुरस्कार प्रदान किया

नई दिल्ली में एक समारोह में राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल ने उन्हें यह पुरस्कार प्रदान किया. समारोह में प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और उप राष्ट्रपति हामिद अंसारी भी मौजूद थे.

बिल एंड मेलिंडा फ़ाउंडेशन के लिए बिल गेट्स के कामकाज के कारण उन्हें इस पुरस्कार से सम्मानित किया गया है.

बिल एंड मेलिंडा फ़ाउंडेशन ने भारत में स्वास्थ्य और विकास परियोजनाओं के लिए क़रीब एक अरब अमरीकी डॉलर लगाने की प्रतिबद्धता जताई है.

इनमें से ज़्यादातर पैसा एड्स की रोकथाम और पोलियो को समाप्त करने की योजनाओं में लगा है.

समझ

पुरस्कार ग्रहण करने के बाद अपने भाषण में बिल गेट्स ने कहा कि भारत दुनिया की सबसे बड़ी स्वास्थ्य समस्याओं में से कुछ का सामना कर रहा है. लेकिन भारत ने स्थिति की गंभीरता को समझा है.

बिल गेट्स ने पोलियो के ख़ात्मे के लिए भारत की कोशिशों का हवाला दिया और कहा कि भारत पोलियो के टीके के दिन 20 लाख लोगों की सेवाएँ लेता है. जो 20 करोड़ घरों में जाकर बच्चों को टीका लगाते हैं.

बिल गेट्स ने कहा, "कोई बच्चा छूट न जाए, इसके लिए ये लोग ट्रेन स्टेशन, बस स्टेशन और नौका टर्मिनल पर जाते हैं. ताकि घर से बाहर बच्चों को भी टीका लगाया जा सके."

यह पुरस्कार पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की याद में दिया जाता है, जिनकी हत्या वर्ष 1984 में कर दी गई थी.

बिल गेट्स से पहले यह पुरस्कार अफ़ग़ानिस्तान के राष्ट्रपति हामिद करज़ई, अमरीका के पूर्व राष्ट्रपति जिमी कार्टर को भी मिल चुका है.