तमिलनाडु के स्कूलों में 'स्टंट' नहीं

तमिलनाडु के स्कूल में स्टंट
Image caption प्रशासन के अनुसार छात्रों और माता-पिता के दबाव में ही कार्यक्रम आयोजित हुआ

तमिलनाडु के एक स्कूल के कार्यक्रम में बच्चों के हाथ पर मोटरसाइकिल चलाने की घटना के बाद राज्य के एक अधिकारी ने बीबीसी को बताया है कि स्कूलों को आदेश दिया जाएगा कि इस तरह की घटनाएँ दोबारा न हों.

पंद्रह जुलाई को विल्लुपुरम के एक स्कूल में बच्चों के हाथों पर एक प्रशिक्षक ने मोटरसाइकिल चलाया था. ऐसे ही एक और स्टंट में लेटी हुई एक बच्ची की छाती पर लकड़ी की तख़्ती के ऊपर से मोटरसाइकिल चलाया गया था. लेकिन वहाँ मौजूद राज्य के एक मंत्री के रिश्तेदार ने जब इस पर एतराज़ जताया तो इस कार्यक्रम को रोक दिया गया. उधर प्रशासन का कहना है कि छात्रों के माता-पिता ने ही स्कूल पर दबाव डाला था कि ऐसे कार्यक्रम का आयोजन किया जाए.

तमिलनाडु के स्कूल विभाग के निदेशक के देवराजन ने बीबीसी को बताया कि राज्य के सभी 50 हज़ार स्कूलों को पत्र भेजकर इसके बारे में हिदायत दी गी है.

उनका कहना है कि स्कूलों को आदेश दिया जाएगा कि ऐसे किसी कार्यक्रम का आयोजन न किया जाएगा जिसमें ख़तरनाक स्टंट या ऐसे करतब शामिल हों. देवराजन का कहना था, "बच्चों की सुरक्षा के बारे में स्कूलों को पहले से ही आदेश दिए गए हैं लेकिन कई बार ऐसी घटनाएँ इसलिए होती हैं क्योंकि छात्रों और उनके माता-पिता की ओर से ऐसी माँग होती है."