गेम्स विलेज के निर्माण पर रोक हटी

मज़दूर
Image caption हाई कोर्ट ने कॉमनवेल्थ गेम्स विलेज़ के निर्माण पर रोक लगा दी थी.

सुप्रीम कोर्ट ने अगले वर्ष दिल्ली में होने वाले राष्ट्रमंडल खेलों के लिए हो रहे निर्माण पर लगी रोक को हटा लिया है.

दिल्ली हाई कोर्ट ने पर्यावरण को हो रही क्षति के मद्देनज़र कॉमनवेल्थ गेम्स विलेज़ के निर्माण पर रोक लगाई थी.

सुप्रीम कोर्ट ने इस रोक को हटाते हुए कहा कि हाई कोर्ट को रोक लगाने संबंधी याचिका पर विचार ही नहीं करना चाहिए था.

इस रोक के ख़िलाफ़ अपील करते हुए अधिकारियों ने कहा था कि अगर रोक नहीं हटी तो भारत में कॉमनवेल्थ खेलों का आयोजन नहीं हो सकेगा.

कॉमनवेल्थ खेलों के लिए गेम्स विलेज़ यमुना नदी के बिल्कुल पास बन रहा है और आलोचकों का कहना है कि इससे नदी को खतरा पैदा हो सकता है.

सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि सरकार ने इस मामले में नियमों का पालन किया है और 1999 में ही नोटिस जारी किए गए थे कि आम नागरिक या किसी संस्था को कोई आपत्ति हो तो ज़ाहिर करे.

सुप्रीम कोर्ट का कहना था कि इस मामले में 2007 में याचिकाएं दायर की गई इसलिए इस पर हाई कोर्ट को संज्ञान ही नहीं लेना चाहिए था.

पिछले हफ़्ते कॉमनवेल्थ गेम्स के प्रमुख माइक फ़नेल दिल्ली में थे और उन्होंने कॉमनवेल्थ खेलों के लिए हो रहे काम से खुशी ज़ाहिर की लेकिन साथ ही कहा था कि समय बहुत कम बचा हुआ है.

संवाद समिति एपी के अनुसार फ़नेल ने कहा था, '' काम समय पर हो रहा है या नहीं इसे लेकर चिंताएं रहती ही हैं. मैं संतुष्ट हूं सरकार का काम देखकर.अच्छी प्रगति हुई है.''

1982 के एशियाई खेलों के बाद भारत में खेलों का यह सबसे बड़ा आयोजन है और ये खेल अगले वर्ष 3 से 14 अक्तूबर के बीच आयोजित हो रहे हैं.