'घबराएँ नहीं, सावधानी बरतें'

स्वाइन फ़्लू
Image caption भारत में स्वाइन फ़्लू को लेकर जागरूकता अभियान चलाया गया

पहली बात तो ये कि यह बेहद दुखद घटना है, एक छोटी बच्ची के साथ ये घटित हुई.

ऐसी रिपोर्टें आ रही हैं कि बच्ची का इलाज निजी अस्पताल में कराया जा रहा था.

ये उलझन की बात है, यदि इस बीमारी का इलाज समय पर नहीं कराया गया तो ये घातक बन सकती है.

हालांकि जो सुलझे हुए प्राइवेट डॉक्टर हैं, वो ऐसे मामलों में खु़द ही सरकारी अस्पताल जाने की सलाह दे देते हैं.

जरा भी शक होने पर तत्काल सरकारी अस्पताल जाना चाहिए.

केंद्र सरकार ने स्वाइन फ़्लू को लेकर पर्याप्त इंतज़ाम किए हैं.

वहाँ तत्काल परीक्षण कराए जाते हैं और पता चल जाता है कि स्वाइन फ़्लू है कि नहीं. फिर उस हिसाब से इलाज किया जाता है.

मेरी सलाह है कि स्वाइन फ़्लू को लेकर घबराने की नहीं, सावधानी बरतने की ज़रूरत है.

जरा भी शक होने पर सरकारी अस्पताल जाएँ और अपना इलाज करवाएँ.

(बीबीसी संवाददाता पल्लवी जैन से बातचीत पर आधारित)

संबंधित समाचार