उत्तर कोरियाई जहाज़ की तलाशी

जहाज़ (फ़ाइल फ़ोटो)
Image caption कोस्ट गार्ड ने कोरियाई जहाज़ को अंडमान द्वीप के पास पकड़ा था.

भारतीय जलसीमा में बिना इजाज़त घुसे उत्तर कोरियाई जहाज़ की तलाशी की जा रही है.

पुलिस और वैज्ञानिकों को अभी तक जहाज़ से किसी तरह की परमाणु सामग्री नहीं मिली है.

भारतीय कोस्ट गार्ड ने पिछले बुधवार को अंडमान और निकोबार द्वीप समूह के पास उत्तर कोरियाई जहाज़ को पकड़ लिया था.

अंडमान के वरिष्ठ पुलिस अधिकारी अशोक चांद का कहना है, "हम संदेह के आधार पर रेडियोधर्मी पदार्थ ढूंढने की कोशिश कर रहे हैं लेकिन अभी तक ऐसा कुछ भी नहीं मिला है. लेकिन हम जब तक संतुष्ट नहीं हो जाते तब तक तलाशी जारी रहेगी."

दूसरी ओर भारतीय ख़ुफ़िया एजेंसी रॉ के एक अधिकारी ने नाम सार्वजनिक नहीं करने की शर्त पर बताया कि उनके पास पुख़्ता ख़बर है कि उत्तर कोरिया परमाणु रिएक्टर बनाने के लिए बर्मा को उपकरण और अन्य ज़रूरी सामान भेजने की कोशिश कर रहा है.

उनका कहना है, "ये प्रक्रिया शुरु हो चुकी है. हमें अपने सूत्रों और पश्चिमी देशों की ख़ुफ़िया एजेंसियों से इसकी जानकारी है. इसीलिए हम पुष्टि करना चाहते हैं कि इस जहाज़ में इस तरह का कोई सामान नहीं हो."

सोमवार को जाँच के काम में पुलिस का सहयोग करने के लिए भारतीय परमाणु वैज्ञानिकों को लगाया गया.

मई में परमाणु परीक्षण करने के बाद संयुक्त राष्ट्र ने उत्तर कोरिया पर प्रतिबंध लगाए थे और इसके तहत सदस्य देशों को उत्तर कोरिया से आ- जा रहे सामानों की तलाशी लेने की अनुमति दी थी.

रिटायर्ड उप नौसेना प्रमुख वाइय एमिरल मिहिर रॉय कहते हैं, "संयुक्त राष्ट्र का सदस्य होने के नाते भारत को अपनी जल सीमा में संदिग्ध जहाज़ों की तलाशी लेने का अधिकार है, ख़ास कर तब जब ख़ुफ़िया रिपोर्ट है कि उत्तर कोरिया बर्मा को परमाणु सामग्री देने की कोशिश कर रहा है."

संबंधित समाचार