मनमोहन के बयान पर कश्मीर में हड़ताल

कश्मीर बंद
Image caption बंद को देखते हुए सुरक्षा बढ़ा दी गई है.

भारत प्रशासित कश्मीर में अलगाववादी नेताओं ने आम हड़ताल का आह्वान किया है.

बंद का आह्वान प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के उस बयान के विरोध में किया गया है जिसमें उन्होंने कहा था कि जम्मू-कश्मीर में अलगाववादी राजनीति अब अप्रासंगिक हो गई है.

प्रधानमंत्री ने स्वतंत्रता दिवस के मौके पर लाल क़िले से दिए गए संबोधन में कहा था कि जम्मू-कश्मीर विधानसभा चुनाव में कश्मीर के लोगों की भागीदारी से स्पष्ट हो गया है कि राज्य में अलगाववादी राजनीति के लिए कोई जगह नहीं है.

इसके विरोध में कुछ अलगाववादियों ने प्रधानमंत्री को राज्य के भविष्य पर जनमत संग्रह करा लेने की चुनौती दे डाली.

ऑल पार्टी हुर्रियत कॉंफ़्रेंस के नेता प्रोफ़ेसर अब्दुल ग़नी भट कहते हैं, "प्रधानमंत्री की टिप्पणी वास्तविकता से दूर है और इससे हमें कोई परेशानी नहीं होने वाली."

वो कहते हैं, "वास्तविकता यही है कि जब तक कश्मीर समस्या का समाधान नहीं हो जाता तब तक दक्षिण एशिया में शांति की कल्पना नहीं की जा सकती."

अब्दुल ग़नी भट का कहना है कि लोगों ने प्रशासन चलाने के लिए मताधिकार का इस्तेमाल किया.

बंद के कारण अधिकतर दुकानें बंद हैं और यातायात पर भी असर पड़ा है.

संबंधित समाचार