भाजपा नेता भागवत से मिले

मोहन भागवत
Image caption संघ पिछले कुछ वर्षों से पार्टी में युवा नेतृत्व को बढ़ावा देने पर ज़ोर देता रहा है

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रमुख मोहन भागवत की इस सलाह के बाद कि भाजपा को अपना घर संभालना चाहिए, भाजपा के कई वरिष्ठ नेता उनसे मिलने संघ कार्यालय पहुँचे.

लगभग दो घंटे उनसे विचार विमर्श के बाद ये सभी वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी के घर भी गए.

इनमें अरुण जेटली, सुषमा स्वराज, वेंकैया नायडू और अनंत कुमार थे. ये सभी वो नेता हैं जिन्हें भाजपा में अगली पीढ़ी का नेता माना जाता है.

पार्टी अध्यक्ष राजनाथ सिंह और लोकसभा में पार्टी के नेता लालकृष्ण आडवाणी के बाद इनमें से ही किसी को नेतृत्व संभालने को कहा जा सकता है.

समझा जाता है कि इन नेताओं ने पार्टी के संकट को सुलझाने और आगे की रणनीति के बारे में संघ प्रमुख से चर्चा की और फिर इस चर्चा का विवरण लालकृष्ण आडवाणी को दिया.

समझा जाता है कि पार्टी के भावी नेतृत्व का मुद्दा भी इस बैठक का हिस्सा रहा होगा लेकिन पार्टी के पूर्व अध्यक्ष वेंकैया नायडू ने इस बात से इनकार किया है कि बैठक में नेतृत्व के मसले पर कोई चर्चा हुई.

बैठक

Image caption भाजपा को इन दोनों नेताओं का विकल्प तलाश करना है

समाचार एजेंसी पीटीआई के अनुसार इस बैठक में भाजपा के महासचिव रामलाल भी थे, जो पार्टी में संघ के प्रतिनिधि हैं.

संघ की ओर से इस बैठक में सुरेश सोनी, मदन दास देवी और मनमोहन वैद्य भी उपस्थित थे.

वैसे तो भाजपा के ये नेता पहले भी संघ प्रमुख से अलग-अलग मुलाक़ात कर चुके थे लेकिन आज ये सभी एक साथ संघ कार्यालय पहुँचे.

इस बैठक से कुछ ही देर पहले संघ प्रमुख ने एक पत्रकारवार्ता में कहा था कि भाजपा को अपना घर ख़ुद ही ठीक करना होगा और वे भाजपा को तभी सलाह देंगे जब उनसे सलाह मांगी जाएगी.

इस बैठक में पार्टी अध्यक्ष राजनाथ सिंह मौजूद नहीं थे. वे गुरुवार को संघ प्रमुख से मुलाक़ात कर चुके हैं.

पीटीआई के अनुसार संकेत हैं कि लालकृष्ण आडवाणी शनिवार को संघ प्रमुख मोहन भागवत से मुलाक़ात कर सकते हैं.

संबंधित समाचार

संबंधित इंटरनेट लिंक

बीबीसी बाहरी इंटरनेट साइट की सामग्री के लिए ज़िम्मेदार नहीं है