मुंबई में 10 से ज़्यादा की मौत

Image caption मुंबई में जुलाई में भी भारी बारिश के कारण जीवन प्रभावित हुआ था.

मुंबई पुलिस ने कहा है कि शहर के अंधेरी इलाक़े में भारी बारिश के कारण हुए भूस्खलन से 10 से ज़्यादा लोगों की मौत हो गई है.

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक अतिरिक्त पुलिस आयुक्त अमिताभ गुप्ता ने बताया कि देर रात साकीनाका इलाक़े में भूस्खलन की ख़बरें आई थीं. वहां से मलबा हटाने के लिए 10 फ़ायर इंजनों को लगाया गया है.

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री अशोक चौहान ने मारे गए लोगों को मुआवज़े के रूप में एक लाख रुपए देने की घोषणा की है.

जबकि घायल हुए लोगों को 25 हज़ार से 50 हज़ार रुपयों तक का मुआवज़ा दिया जाएगा.

मुंबई में अक्सर मॉनसून और भारी बारिश के दौरान जीवन अस्त-व्यस्त हो जाता है. यातयात बुरी तरह प्रभावित रहता है और यहाँ की लाइफ़लाइन कही जाने वाली मुंबई की लोकल ट्रेनों पर भी असर पड़ता है.

जुलाई में भी यहाँ 24 घंटों तक लगातार भारी बर्षा हुई थी और जनजीवन ठप पड़ गया था.

वर्ष 2005 में मुंबई में हुई भीषण बारिश से पूरे महानगर में बाढ़ आ गई थी और महाराष्ट्र में 950 से ज़्यादा लोगों की मौत हो गई थी.

पानी निकलने में तीन दिनों से ज़्यादा का वक़्त लगा था. उस दौरान मुंबई और आस-पास के इलाक़ों में करीब दो करोड़ लोग प्रभावित हुए थे.

संबंधित समाचार