मणिपुर के राजभवन में विस्फोटक से भरी कार

मणिपुर से सुरक्षा
Image caption मणिपुर सर्वाधिक विद्रोही हिंसा झेल रहे राज्यों में से एक है

मणिपुर की राजधानी इम्फ़ाल में राजभवन में विस्फोटक से भरी एक कार मिली है. लेकिन आश्चर्यजनक रुप से इसकी सूचना उन्हीं विद्रोहियों ने स्थानीय मीडिया को दी जिन्होंने यह कार वहाँ ले जाकर पार्क की थी.

विस्फोटकों से भरी एक सफ़ेद मारुति कार को दोपहर में राजभवन की कार पार्किंग में रखने के कुछ मिनटों बाद ही विद्रोहियों ने स्थानीय मिडिया को फ़ोन पर इसकी जानकारी दी.

इसके बाद मीडिया ने पुलिस को सूचना दी और फिर भारी भरकम पुलिस बल वहाँ पहुँचा और बम को वहाँ से हटाया गया.

फ़ोन करने वाले व्यक्ति ने कहा, "हमने विस्फोटकों से भरी कार राजभवन में रखी है. हम इसमें विस्फोट कर सकते हैं लेकिन ऐसा नहीं कर रहे हैं क्योंकि हम सरकार को यह बताना चाहते हैं कि मणिपुर में हम वो सब कर सकते हैं जो हम करना चाहते हैं."

फ़ोन करने वाले व्यक्ति ने अपना नाम कोइरेंग बताया है.

उसने अपने आपको 'क्रांतिकारी' कहा लेकिन यह नहीं बताया कि मणिपुर के बहुत से विद्रोही गुटों में से उसका ताल्लुक किस गुट से है.

मणिपुर से पुलिस प्रमुख जयकुमार सिंह ने बताया कि विस्फोटक को पुलिस के विशेषज्ञ जाँच रहे हैं.

इम्फ़ाल से स्थानीय पत्रकार युमनैम रुपचंद्र ने कहा है, "यह विद्रोहियों के लिए भारी प्रचार पाने का तरीक़ा है. उन्होंने राजभवन में विस्फोटकों से भरी कार ले जाकर न केवल सुरक्षा व्यवस्था की पोल खोल दी है बल्कि अपनी क्षमता भी ज़ाहिर की है."

राजभवन में न केवल राज्यपाल का कार्यालय है बल्कि उनका निवास भी वहीं है. केंद्रीय मंत्रियों सहित राज्य का दौरा करने वाले विशिष्ट अतिथि राजभवन में ही ठहरते हैं.

यहाँ सुरक्षा व्यवस्था अन्य स्थानों की तुलना में बहुत अधिक होती है.

युनमैन रुपचंद्र का कहना है कि पिछले दिनों फ़र्ज़ी मुठभेड़ों के चलते बदनाम हुई पुलिस इस घटना से और अधिक बदनाम हुई है.

संबंधित समाचार