'थरूर को बयान से बचने की सलाह'

शशि थरूर
Image caption शशि थरूर ने अपनी टिप्पणी पर खेद भी जताया था

हवाई जहाज़ के रियायती दर्जे को 'मवेशी श्रेणी' कहने के बाद विवादों में विदेश राज्य मंत्री शशि थरूर ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और वित्त मंत्री प्रणब मुखर्जी से मुलाक़ात की है.

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक़ पार्टी ने थरूर से कहा है कि वे ऐसी टिप्पणियों से बचें, जिससे आम लोगों की भावनाओं को चोट पहुँच सकती है.

लाइबेरिया और घाना की आधिकारिक यात्रा से लौटने के बाद शशि थरूर ने पहले कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और फिर वित्त मंत्री प्रणब मुखर्जी से मुलाक़ात की.

शशि थरूर के 'मवेशी श्रेणी' वाले बयान से कांग्रेस पार्टी काफ़ी नाराज़ थी और राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने तो उनसे इस्तीफ़ा भी मांगा था.

विवाद

दरअसल आर्थिक मंदी और देश में सूखे की स्थिति के मद्देनज़र सत्तारुढ़ कांग्रेस ने पार्टी और सरकार के स्तर पर ख़र्च कम करने की सलाह दी थी.

इसी क्रम में मंत्रियों को इकोनॉमी क्लास में सफ़र करने की सलाह दी गई थी. सोनिया गांधी ने भी दिल्ली से मुंबई की यात्रा हवाई जहाज़ के इकोनॉमी क्लास में की थी.

लेकिन एक सोशल नेटवर्किंग साइट पर शशि थरूर ने यह लिख दिया कि वे बाक़ी मंत्रियों की तरह इकोनॉमी क्लास या 'मवेशी श्रेणी' में यात्रा करने का तैयार हैं.

लाइबेरिया और घाना की यात्रा से लौटे शशि थरूर ने दोनों नेताओं से मुलाक़ात तो की लेकिन उन्होंने पत्रकारों से कोई बात नहीं की.

जब इस बैठक के बारे में कांग्रेस प्रवक्ता शकील अहमद से पूछा गया, तो उन्होंने कहा, "पार्टी, सरकार और शशि थरूर का कोई भी शुभचिंतक उन्हें यही सलाह देगा कि वे मज़ाक में भी ऐसे बयानों से बचें, जिनसे आम लोगों की भावनाओं को चोट पहुँच सकती है."

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने तो शशि थरूर की टिप्पणी पर कड़ी प्रतिक्रिया व्यक्त की थी और उनसे त्यागपत्र तक मांग लिया था. लेकिन प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने विवाद को यह कहकर टालने की कोशिश की कि ये टिप्पणी मज़ाक में की गई थी.

संबंधित समाचार