कर्नाटक, आंध्र प्रदेश को मदद का आश्वासन

कर्नाटक सरकार ने बाढ से पैदा हुए संकट से निपटने के लिए भारत सरकार से 16 हज़ार करोड़ रुपए की मांग की है.

केंद्रीय गृह मंत्री पी चिदंबरम ने बाढ़ से बुरी तरह प्रभावित आंध्र प्रदेश और कर्नाटक दोनों राज्यों को हर संभव मदद देने का आश्वासन दिया है.

कर्नाटक और आंध्र प्रदेश में बाढ़ के कारण अब तक दो सौ से ज़्यादा लोगों की मौत हो चुकी है.

पी चिदंबरम और कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने बाढ़ प्रभावित इलाक़ों का हवाई सर्वेक्षण किया है.

कर्नाटक मे बाढ ने भारी तबाही मचाई है.

आंध्र प्रदेश सरकार ने अपील की है कि केंद्र सरकार 10 हज़ार करोड़ रुपए उसे तुरंत मुहैया कराया जाए.

राज्य के राजस्व मंत्री करुनाकरण ने बीबीसी संवाददाता श्याम सुंदर को बताया की राज्य के 6 ज़िले बाढ से प्रभावित हैं और कम से कम दो लाख से ज़्यादा लोग इस संकट के चलते विस्थापित हुए हैं.

करुनाकरण के अनुसार बाढ के चलते अभी तक 194 लोग अपनी जान गंवा चुके हैं और हज़ारों मवेशी भी मारे गए हैं.

कल गृहमंत्री पी चिदबंरम ने बाढ़ग्रस्त ज़िलों का हवाई सर्वेक्षण किया. उन्होने राज्य सरकार को आश्वासन दिया की इस संकट से निपटने के लिए हर संभव मदद उपलब्ध कराई जाएगी.

बाढ के चलते लाखों घर गिर गए हैं, फ़सल बर्वाद हो चुकी है. इस संकट से निपटने के लिए केन्द्र राज्य को कम से कम 10 हज़ार करोङ रुपए उपलब्ध कराए.

करुणाकरण, राजस्व मंत्री कर्नाटक

कर्नाटक के छह ज़िले जिनमें रायचूर, बेल्लारी और बीजापुर शामिल हैं, बाढ से बुरी तरह से प्रभावित हुए हैं.

राज्य सरकार का कहना है की बाढ के चलते कई गांव बह गए हैं, लाखों मकान गिर गए हैं और हज़ारों किलोमीटर सड़कें टूट गई हैं. राज्य सरकार का कहना है की इस नुकसान की भरपाई के लिए राज्य को मदद तुरंत चाहिए.

राज्य सरकार ने राहत और बचाव काम के लिए केन्द्र सरकार की ओर से भेजे गए बचाव दलों की प्रशंसा की है पर कहा है की पुनर्निमाण का काम ज़रुरी है और उसके लिए आर्थिक मदद दी जानी चाहिए.

आंध्र प्रदेश में स्थिति गंभीर

आंध्र प्रदेश में दो लाख लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुँचाया गया है.

आंध्र प्रदेश में कुर्नूल ज़िले में कृष्णा नदी का पानी घटने से थोड़ी राहत मिली है लेकिन गुंटूर और कृष्णा ज़िलों में कई नदियों के तटबंध टूट गए हैं और मंगलवार सुबह कम से कम तीस और गाँव बाढ़ के पानी में डूब गए.

हैदराबाद स्थित बीबीसी संवाददाता उमर फ़ारूक़ ने बताया है कि गुंटूर ज़िले के ओलेरू गाँव के पास मंगलवार तड़के कृष्णा नदी का बांध 50 फुट की लंबाई में बह गया और देखते ही देखते कई गाँवों में पानी घुस गया.

गुंटूर में ही राहत और बचाव कार्यों का मुआयना कर रहे राज्य के परिवहन मंत्री कन्ना लक्ष्मीनारायण ने कहा कि पानी के बहाव को देखते हुए अधिकारी कुछ भी नहीं कर सके.

कृष्णा और गुंटूर ज़िलों से दो लाख लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुँचाया गया है.

गुंटूर ज़िले के पेसरलंका में एक नाव बाढ़ के पानी में बह गया. इस पर पंद्रह लोग सवार थे जिनमें से छह का कोई अता-पता नहीं है.

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.