आंध्र को 1000 करोड़ की सहायता

आंध्र प्रदेश
Image caption बाढ़ से आंध्र प्रदेश में 65 लोगों की मौत हुई है

प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने आंध्र प्रदेश के बाढ़ प्रभावित इलाक़ों के लिए केंद्र की ओर से 1000 करोड़ रुपए की सहायता की घोषणा की है.

आंध्र प्रदेश के बाढ़ प्रभावित पाँच ज़िलों का हवाई सर्वेक्षण करने के बाद हैदराबाद में एक संवाददाता सम्मेलन में उन्होंने यह घोषणा की.

उन्होंने कहा कि स्थिति का जायज़ा लेने के लिए केंद्र की एक टीम जल्द ही राज्य का दौरा करेगी. प्रधानमंत्री ने कहा कि केंद्र और राज्य दोनों मिलकर बाढ़ प्रभावित इलाक़ों के लिए अतिरिक्त संसाधन जुटाने पर काम करेंगे.

शुक्रवार को आंध्र प्रदेश पहुँचे प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने विजयवाड़ा से हवाई सर्वेक्षण शुरू किया.

उन्होंने राज्य के पाँच ज़िलों गुंटूर, कृष्णा, नलगोंडा, कर्नूल और महबूबनगर के बाढ़ प्रभावित इलाक़ों का हवाई सर्वेक्षण किया.

'अभूतपूर्व त्रासदी'

मनमोहन सिंह ने इसे अभूतपूर्व त्रासदी और गंभीर चुनौती बताया. यह पूछे जाने पर कि क्या केंद्र सरकार इसे राष्ट्रीय आपदा घोषित करने जा रही है, प्रधानमंत्री ने कहा कि इतनी बड़ी त्रासदी राष्ट्रीय आपदा ही होती है.

जब तक मैं प्रधानमंत्री हूँ, किसी राज्य के साथ भेदभाव नहीं होगा. हम कर्नाटक को भी सहायता देंगे मनमोहन सिंह

आंध्र प्रदेश में पिछले दिनों आई बाढ़ में 65 लोगों की मौत हो गई थी और क़रीब 15 लाख लोग बेघर हो गए थे.

शनिवार को प्रधानमंत्री कर्नाटक के बाढ़ प्रभावित इलाक़ों का दौरा करेंगे, जहाँ बाढ़ से क़रीब 200 लोगों की मौत हुई है.

एक सवाल के जवाब में उन्होंने इससे इनकार किया कि केंद्र सरकार कर्नाटक से भेदभाव कर रही है. उन्होंने कहा, "जब तक मैं प्रधानमंत्री हूँ, किसी राज्य के साथ भेदभाव नहीं होगा. हम कर्नाटक को भी सहायता देंगे."

प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने कहा कि नदियों को जोड़ने का पहले से काम चल रहा है. लेकिन इसे तेज़ करने की आवश्यकता है.

संबंधित समाचार