पाकिस्तान का आरोप ग़लत: मनमोहन

मनमोहन सिंह
Image caption मनमोहन सिंह ने मुंबई हमलों में निष्पक्ष कार्रवाई की मांग की

प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने कहा है कि भारत पाकिस्तान के बलूचिस्तान प्रांत में आतंकवाद नहीं फैला रहा है.

मुंबई में एक संवाददाता सम्मेलन में मनमोहन सिंह ने कहा कि पाकिस्तान का ये आरोप बिल्कुल ग़लत है.

प्रधानमंत्री ने कहा, "हम पाकिस्तान या किसी और देश में आतंकवाद फैलाने का काम नहीं करते. पाकिस्तान की सरकार और वहाँ की जनता ये बात जानती है कि ये ग़लत आरोप है."

पाकिस्तान के आंतरिक सुरक्षा मामलों के मंत्री रहमान मलिक ने इसके पहले आरोप लगाया था कि भारत बलोचिस्तान में "एक तरह का आतंकवाद" पहुंचा रहा है.

रहमान मलिक का कहना था कि उन्होने अमरीका से भी कहा है कि वो भारत को चेतावनी दे क्योंकि बलोचिस्तान में जो भी हो रहा है उस पर भारत के हस्ताक्षर हैं.

मनमोहन सिंह ने इन आरोपों को बेबुनियाद बताते हुए ये भी मांग की कि पाकिस्तान मुंबई हमलों के साज़िशकर्ताओं के ख़िलाफ़ मुक़दमा चलाए और उन्हें सज़ा दे.

उन्होंने कहा कि भारत और अंतरराष्ट्रीय समुदाय की ओर से कूटनीतिक दबाव के कारण पहली बार पाकिस्तान ने यह स्वीकार किया कि मुंबई हमलों में उसके नागरिक शामिल थे. मुंबई हमलों में 170 लोग मारे गए थे.

उम्मीद

मनमोहन सिंह ने कहा कि पाकिस्तान ने पहली बार ये स्वीकार किया है कि मुंबई हमलों के तार उसके यहाँ से जुड़े हुए हैं और हमलों की साज़िश वहीं रची गई.

उन्होंने कहा कि पाकिस्तान ने पहली बार ये स्वीकार किया कि उसके नागरिक मुंबई हमलों में शामिल थे. पाकिस्तान ने पहले कभी ये माना नहीं था.

प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने कहा, "उन्हें हाफ़िज़ मोहम्मद सईद, लश्कर-ए-तैबा और जैशे मोहम्मद समेत उन सबके ख़िलाफ़ जाँच करनी चाहिए. मुक़दमा निष्पक्ष होना चाहिए ताकि उन्हें सज़ा दिलाई जा सके. हमने उम्मीद नहीं छोड़ी है."

लश्कर के संस्थापक रहे हाफ़िज़ मोहम्मद सईद इस समय जमात-उद-दावा के प्रमुख हैं. पिछले साल नवंबर में हुए मुंबई हमलों के लिए उन्हें भी ज़िम्मेदार ठहराया जाता है.

संबंधित समाचार