'बर्मा का नगा ठिकाने पर हमला'

नगा अलगाववादी
Image caption नगा विद्रोही पिछले छह दशक से वृहत नगालैंड की मांग कर रहे हैं

भारतीय सैन्य अधिकारियों का कहना है कि बर्मा की सेना ने देश के उत्तर-पश्चिम में नगा विद्रोहियों के एक ठिकाने को अपने घेरे में ले लिया है और हमले किए जा रहे हैं.

सेना की ये कार्रवाई बर्मा के सागेनिंग डिविज़न में की जा रही है. ये इलाका़ भारत के पूर्वोत्तर राज्य नगालैंड के मानियकशॉ गाँव से सटा हुआ है.

अधिकारियों के अनुसार भारत की ओर भागने वाले अलगाविदियों को पकड़ने के लिए पहाड़ की दूसरी ओर सैन्य टुकड़ी को लगाया गया है.

माना जाता है कि सागेनिंग डिविज़न का ठिकाना नेशनल सोशलिस्ट काउंसिल ऑफ़ नगालैंड के खपलांग गुट के ज़रिए चलाया जाता है.

भारतीय ख़ुफ़िया एजेंसी का कहना है कि वहाँ तक़रीबन 300 अलगावादी लड़ाके मौजूद हैं. एजेंसी ने दावा किया है कि अलगावादियों पर हमले के लिए बर्मा की सेना की दो रेज़िमेंट को लगाया जा रहा है.

ग़ौरतलब है कि नगा विद्रोही पूर्वोत्तर भारत के कुछ राज्यों के नगा बहुल क्षेत्रों को मिलाकर वृहत नगालैंड बनाने की माँग कर रहे हैं.

बर्मा ख़ामोश

हालाँकि बर्मा के सैन्य अधिकारियों या राजनयिकों ने इस संबंध में कोई भी जानकारी देने से अपनी असमर्थता जाताई है.

सागेनिंग डिविज़न के क़रीब मानियकशॉ गाँव के लोगों का कहना है कि वे देख सकते हैं कि बर्मा की सेना मोर्टार गोलों से अलगाववादियों के कैंप पर हमले कर रही है.

भारतीय सैन्य अधिकारियों ने भीषण गोलाबारी की पुष्टि की है और कहा है कि ये हमला गुरुवार की देर रात शाम शुरू किया गया.

ग़ौरतलब है कि बर्मा की सेना जुनता पर कुछ समय से राजनयिक दबाव था वो भारत के पूर्वोत्तर में सक्रिय अलगावागदियों पर कार्रवाई करे.

बर्मा की सेना ने दिसंबर 2003 में भी भारत के पूर्वोत्तर में सक्रिय अलगावादियों के ठिकानों नष्ट किया था.

संबंधित समाचार