शिवराज के बयान पर मचा बवाल

शिवराज सिंह चौहान
Image caption शिवराज सिंह चौहान अपने बयान से पलट गए हैं

बिहार के लोगों पर टिप्पणी के कारण विवादों की ताज़ा कड़ी में नाम जुड़ा है मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का.

सतना में एक कार्यक्रम के दौरान शिवराज सिंह चौहान ने ये कह दिया कि अगर राज्य में कारखाना स्थापित किया जाए, तो स्थानीय लोगों को नौकरियों में प्राथमिकता मिले.

उन्होंने कहा कि ऐसा नहीं होना चाहिए कि बिहार से आने वाले लोगों को नौकरियाँ दे दी जाए.

शिवराज सिंह के इस बयान पर काफ़ी बवाल मचा. ख़ासकर बिहार के नेताओं लालू प्रसाद यादव और रामविलास पासवान ने शिवराज सिंह के बयान की कड़ी आलोचना की.

इसके बाद शिवराज सिंह चौहान अपने बयान से पलट गए. मुख्यमंत्री का कहना था कि उनके बयान को सही संदर्भ में नहीं लिया गया.

उन्होंने कहा, "मैं बिहार, उत्तर प्रदेश, दक्षिण भारत, पंजाब या किसी अन्य राज्य से आने वाले लोगों का तहे दिल से स्वागत करूँगा."

स्पष्टीकरण

शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि वे यह कहना चाह रहे थे कि कभी-कभी स्थानीय लोग किसी ख़ास काम के लिए निपुण नहीं होते, इसलिए उन्हें प्रशिक्षण का मौक़ा मिलना चाहिए ताकि वे अपनी जीविका चला सकें.

Image caption लालू यादव ने शिवराज सिंह की कड़ी आलोचना की

राष्ट्रीय जनता दल के अध्यक्ष और पूर्व केंद्रीय मंत्री लालू प्रसाद यादव ने शिवराज सिंह चौहान के बयान को असंवैधानिक कहा है. उन्होंने मांग की कि शिवराज सिंह चौहान अपने बयान के लिए तुरंत माफ़ी मांगे.

दूसरी ओर लोक जनशक्ति पार्टी के नेता रामविलास पासवान ने शिवराज सिंह चौहान के बयान को दुर्भाग्यपूर्ण कहा है.

उन्होंने कहा कि शीर्ष संवैधानिक पद पर बैठे व्यक्ति को ऐसा बयान नहीं देना चाहिए. रामविलास पासवान ने उनके त्यागपत्र की मांग की.

संबंधित समाचार