कोड़ा के साथियों के ख़िलाफ़ वारंट

मधु कोड़ा

आयकर विभाग ने झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री मधु कोड़ा के दो सहयोगियों के ख़िलाफ़ गिरफ्तारी का वारंट जारी किया है.

आयकर विभाग के सहायक निदेशक(अनुसंधान) प्रशांत रंजन ने जमशेदपुर और चाईबासा ज़िलों के एसपी को यह वारंट भेजते हुए कहा है कि मधु कोड़ा के सहयोगी विनोद सिन्हा और संजय चौधरी को विभाग के राँची स्थित कार्यालय में 23 नवंबर तक हाज़िर किया जाए.

मधु कोड़ा और उनके सहयोगियों पर कथित आरोपों के अनुसार उन्हें और उनके मित्रों को हवाला सहित भ्रष्टाचार के कुछ मामलों में शामिल पाया गया है. ये मामले उन दिनों के हैं जब मधु कोड़ा झारखंड राज्य के मुख्यमंत्री थे.

प्रवर्तन निदेशालय और आयकर विभाग ने मधु कोड़ा और उनके सहयोगियों के 70 ठिकानों पर छापामारी कर चार हज़ार करोड़ रूपए से भी ज़्यादा के निवेश संबंधी दस्तावेज़ बरामद किए हैं. छापामारी के बाद दी गई जानकारी के मुताबिक इसमें से एक हज़ार करोड़ रूपए हवाला के माध्यम से विदेशों में निवेश किए गए हैं.

प्रवर्तन निदेशालय के सूत्रों के अनुसार यह निवेश अफ्रीका, लाइबेरिया, थाईलैंड और मलेशिया में किए गए हैं. प्रवर्तन निदेशालय ने इस संबंध में इंटरपोल की मदद भी मांगी है.

इस बीच मधु कोड़ा सीने में दर्द की शिकायत के बाद एक अस्पताल में भर्ती कराए गए थे. उन पर लगे आरोपों की जाँच का काम लगातार जारी है.

गुरुवार तक के ताज़ा क्रम में आयकर विभाग के अधिकारियों ने वारंट की प्रतियाँ विनोद सिन्हा और संजय चौधरी के आवासों के बाहर भी चिपका दी हैं.

इसके अलावा आयकर विभाग ने इन दोनों की गिरफ्तारी के लिए राज्य के अपराध अनुसंधान विभाग से भी मदद मांगी है.

विनोद सिन्हा और संजय चौधरी को बुधवार तक आयकर विभाग के अधिकारियों के सामने पेश होना था मगर बुधवार की देर रात तक यह दोनों व्यक्ति नहीं आए तब जाकर विभाग ने इनके खिलाफ़ गिरफ्तारी के वारंट जारी किए हैं.

इस बीच पता चला है के विनोद सिन्हा ने इच्छा व्यक्त की है कि वो आयकर विभाग के समक्ष अपने वकील के माध्यम से उपस्थित होना चाहते हैं.

इसपर विभाग के अपर निदेशक (अनुसंधान) अजित श्रीवास्तव का कहना है कि आयकर विभाग को कोई आपत्ति नहीं है जब तक विनोद सिन्हा अनुसंधान में मदद करते रहें.

पूछताछ जारी

उधर प्रवर्तन निदेशालय ने मुंबई स्थित हवाला एजेंट मनोज पुनमिया, महेंद्र पटोरिया और अरविंद व्यास से पूछताछ का सिलसिला जारी रखा है.

इन तीनों हवाला कारोबारियों से डिपार्टमेंट ऑफ़ रेवेन्यु इंटेलिजेंस के अधिकारी भी पूछताछ कर रहे हैं.

मधु कोड़ा के आवासीय कार्यालय से जब्त फाइलों की जाँच चल रही है और आयकर के अधिकारी उनसे लगातार पूछताछ कर रहे हैं. इसके अलावा उनके निजी सचिव हरेन्द्र सिंह से भी पूछताछ का सिलसिला जारी है.

इस बीच मधु कोड़ा के पिता रसिका कोड़ा ने केंद्रीय वित्तमंत्री प्रणब मुखर्जी को चिट्ठी लिखकर आरोप लगाया है कि उनके पुत्र को आयकर विभाग ने घर में नज़रबंद कर रखा है.

रसिका कोड़ा का आरोप है कि विभाग के अधिकारी किसी को भी मधु कोड़ा से मिलने नहीं दे रहे हैं.

संबंधित समाचार