पाकिस्तान पूरी ताकत से कार्रवाई करे: मनमोहन

मुंबई
Image caption मनमोहन सिंह ने कहा कि पाकिस्तान और क़दम उठा सकता है

भारत के प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने वॉशिंगटन में पत्रकारों से बातचीत में कहा है कि जब तक मुंबई हमलों की साज़िश करनेवालों को सज़ा नहीं मिल जाती भारत चैन से नहीं बैठेगा.

उन्होंने स्पष्ट किया कि आतंक के ढांचे और उसकी सुरक्षित पनाहगाह को नष्ट किए जाने की ज़रूरत है.

मनमोहन सिंह का कहना था कि इस मामले को भारत ने पाकिस्तान के सामने पूरी ताक़त और क्षमता से रखा है.

उनका कहना था कि भारत उम्मीद करता है कि मुंबई हमले के मुख्य साज़िशकर्ता और उनके साथियों को क़ानून के दायरे में लाया जाएगा और उन्हें सज़ा मिलेगी.

भारतीय प्रधानमंत्री का कहना था कि मुंबई हमला देश की बाहर की ताकतों की सोची समझी साज़िश के तहत किया गया.

मनमोहन सिंह ने मुंबई हमलों के सिलसिले में पाकिस्तान की कार्रवाई का स्वागत किया लेकिन उन्होंने और क़दम उठाए जाने की ज़रूरत बताई.

भारतीय प्रधानमंत्री का कहना था, ''ये पाकिस्तान सरकार का दायित्व है कि वो साज़िश करने वालों के ख़िलाफ़ पूरी ताकत से कार्रवाई करे.''

उन्होंने कहा कि इस दिशा में उठाए जानेवाले किसी भी क़दम का वो स्वागत करते हैं.

साथ ही उन्होंने कहा कि हमारा ये मानना है कि पाकिस्तान सरकार और बहुत कुछ कर सकती है और वो अपने देश में मुक्त घूम रहे लोगों की धरपकड़ कर आतंकवाद का ढांचा नष्ट कर सकती है.

पाकिस्तान में आरोपपत्र

उल्लेखनीय है कि इसके पहले पाकिस्तान की एक अदालत ने मुंबई हमलों के सिलसिले में सभी अभियुक्तों के ख़िलाफ़ आरोप पत्र दाख़िल कर लिया है और अभियुक्तों की ज़मानत याचिका ख़ारिज कर दी है.

अदालत ने मुंबई हमलों के दौरान पकड़े गए एकमात्र जीवित हमलावर अजमल कसाब सहित अन्य नौ लोगों को अपराधी भी घोषित कर दिया है.

ग़ौरतलब है कि मुंबई हमलों के दौरान ज़िंदा पकड़े गए पाकिस्तानी नागरिक अजमल आमिर कसाब इन दिनों मुंबई की एक जेल में बंद हैं और वहाँ उन पर मुक़दमा चल रहा है

आतंकवाद निरोधक अदालत के जज अकरम अवान ने मुंबई हमलों के मुक़दमे की सुनवाई रावलपिंडी की अदियाला जेल में की.

सभी अभियुक्तों को जज के समक्ष पेश किया गया और उनकी मौजूदगी में अभियुक्तों के वकीलों को आरोप पत्र की प्रतियाँ दी गईं.

जिन अभियुक्तों के ख़िलाफ अदालत में अभियोग लागू किया है उनमें ज़की उर रहमान लखवी, हामिद अमीन सादिक़, शाहिद जमीन रियाज़, मज़हर इक़बाल, जमील अहमद, अब्दुल वाजिद और यूनस अंजुम शामिल हैं.

संबंधित समाचार