हेडली के ख़िलाफ़ अमरीका ने आरोप तय किए

ताज होटल
Image caption मुंबई हमलों में लगभग 170 लोग मारे गए थे.

अमरीका में अभियोजन पक्ष ने पाकिस्तानी मूल के अमरीकी नागरिक डेविड कोलमैन हेडली पर मुंबई हमलों के सिलसिले में आरोप तय कर दिए हैं.

उल्लेखनीय है कि मुंबई हमलों में 160 से अधिक लोग मारे गए थे.

अमरीकी जांच एजेंसी ने पाकिस्तानी मूल के अमरीकी डेविड हेडली को तब गिरफ़्तार किया जब उन्हें पता चला कि वो कथित रूप से भारत के ख़िलाफ़ चरमपंथी हमले की योजना में संलग्न थे.

डेविड हेडली पर अमरीका के शिकागो शहर की एक अदालत में आरोपपत्र दाखिल किया गया.

हेडली पर आरोप है कि उनकी डेनमार्क के एक समाचारपत्र कार्यालय पर भी हमला करने की योजना थी.

अभियोजनपक्ष का कहना है कि डेविड हेडली ने पाकिस्तान स्थित चरमपंथी गुट लश्करे तैबा से प्रशिक्षण लिया था.

भारत का कहना है कि मुंबई हमलों के लिए ये ही गुट ज़िम्मेदार है

भारत में भी मामला

इसके पहले भारतीय राष्ट्रीय जाँच एजेंसी ने डेविड कोलमैन हेडली और उसके साथियों के ख़िलाफ़ भारत पर चरमपंथी हमले के षड्यंत्र के आरोप में मामला दर्ज किया था.

डेविड कोलमैन हेडली को अमरीकी जाँच एजेंसी एफ़बीआई ने गिरफ़्तार किया था.

उनका कहना है कि पिछले साल 26 नवंबर के हमले से पहले और बाद भी हेडली ने कई बार भारत का दौरा किया था.

इस बात की जाँच चल रही है कि भारत में वो कहाँ-कहाँ गए थे.

हेडली के पकड़े जाने के बाद भारत ने पाकिस्तानी मूल के अमरीकियों के लिए वीज़ा नियम और सख़्त करने का एलान किया है.

पाकिस्तानी मूल के अमरीकियों के लिए अब भारत आने के लिए वीज़ा की मंज़ूरी दिल्ली से मिलेगी.

भारत और अमरीका के अच्छे रिश्तों की वजह से अमरीकी नागिरकों को कभी भारत का वीज़ा मिलने में मुश्किल नहीं होती थी.

लेकिन अब आदेश जारी कर दिया गया है कि पाकिस्तानी मूल के अमरीकियों के वीज़ा के कागज़ात दिल्ली भेजे जाएं.

संबंधित समाचार