ज्योति बसु की हालत नाज़ुक

ज्योति बसु
Image caption वरिष्ठ माकपा नेता की हालत अब भी नाज़ुक.

मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी के वरिष्ठ नेता और पश्चिम बंगाल के पूर्व मुख्यमंत्री ज्योति बसु की हालत अब भी नाज़ुक बनी हुई है.

शुक्रवार को एक बार फिर 95 वर्षीय ज्योति बसु को वेंटिलेटर पर रखा गया है. गुरुवार शाम को वेंटिलेटर पर उनकी निर्भरता थोड़ी कम की गई थी.

ज्योति बसु को निमोनिया है और पिछले दो-तीन दिनों में उनकी स्थिति बिगड़ी है. उन्हें कोलकाता के एएमआरआई अस्पताल में रखा गया है.

अस्पताल के मेडिकल बोर्ड के एक सदस्य सुश्रुत बैनर्जी ने पत्रकारों को बताया कि ज्योति बसु का बैक्टेरियल टेस्ट किया गया है, जिसकी रिपोर्ट शुक्रवार को आएगी.

अस्पताल के बाहर भीड़

अस्पताल के बाहर बड़ी संख्या में उनके समर्थक मौजूद हैं और उनका हालचाल पूछने अलग-अलग राजनीतिक पार्टियों के नेता पहुँच रहे हैं.

गुरुवार को प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह भी उन्हें देखने अस्पताल पहुँचे. उनके साथ केंद्रीय वित्त मंत्री प्रणब मुखर्जी भी थे.

प्रधानमंत्री क़रीब 20 मिनट अस्पताल में रुके और ज्योति बसु के इलाज में लगी मेडिकल टीम की सहायता के लिए देश के शीर्ष डॉक्टरों को भेजने की पेशकश की.

इसके अलावा मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी के महासचिव प्रकाश कारत, पोलित ब्यूरो सदस्य सीताराम येचुरी और वृंदा कारत भी ज्योति बसु को देखने अस्पताल पहुँचे.

संबंधित समाचार