थरूर ने उंगली उठाई नेहरू की नीतियों पर

शशि थरुर
Image caption शशि थरुर फिर विवादों के घेरे में आ सकते हैं

विदेश राज्य मंत्री शशि थरूर पंडित जवाहरलाल नेहरू की विदेश नीति की कथित आलोचना पर हां में हां मिलाकर फिर से विवादो में आ गए हैं.

शनिवार को नयी दिल्ली में इंडियन काउंसिल ऑफ़ वर्ल्ड अफेयर्स द्वारा आयोजित एक संगोष्ठी में शशि थरूर ने जवाहरलाल नेहरु की इस कथित आलोचना का अनुमोदन किया कि नेहरु की विदेश नीति परोपदेशी थी और इसमें भारत को बढ़ा चढ़ा कर महत्ता दी गयी थी.

इस संगोष्ठी में ब्रिटेन के भारतीय मूल के लेबर सांसद भीखू पारेख भी मौजूद थे और थरूर ने उन्हीं की हां में हां मिलायी थी.

शशि थरूर ने कहा कि "मैं नेहरु और गाँधी की विदेश नीति के बारे में भीखू पारेख के विचार से सहमत हूँ. वो (नेहरू गांधी की विदेश नीति) नैतिकता पर एक न रूकनेवाली कमेंटरी की तरह है."

इस मौके पर उन्होंने अपने पहले के लेख का उल्लेख भी किया जिसमें उन्होंने विदेश नीति के मामलों पर नेहरु के दृष्टिकोण की आलोचना की थी.

थरूर के इन विचारों पर कांग्रेस पार्टी ने अपनी प्रतिक्रिया में आश्चर्य व्यक्त किया है.

पार्टी प्रवक्ता शकील अहमद ने समाचार एजेंसी पीटीआई से कहा है कि " मैं शशि थरूर के स्टाइल से विस्मित हूँ.वो कांग्रेस के सदस्य हैं और उनकी ज़िम्मेदारी है कि वो पंडित नेहरु के मूल्यों को आगे बढाएं न कि उनकी आलोचना करें."

आज़ाद भारत के पहले प्रधानमंत्री के तौर पर देश में और ख़ासकर कांग्रेस पार्टी के अंदर जवाहरलाल नेहरु का खास स्थान है.

पंचशील और गुटनिरपेक्षता उनकी विदेश नीति के वो स्तंभ माने जाते हैं जिनके बारे में कांग्रेस का मानना है कि वो दुनिया को नेहरु की देन है.

शशि थरूर ने हाल ही में सोशल नेटवर्किंग साईट ट्विटर पर अपने ब्लॉग में भारत की वीज़ा नीति पर अपने निजी विचार व्यक्त किए थे जो आलोचनात्मक थे.

इसके बाद मंत्रालय में उनके वरिष्ठ सहयोगी, विदेश मंत्री एस एम कृष्णा ने सार्वजनिक तौर पर अपनी प्रतिक्रिया ज़ाहिर करते हुए कहा था कि थरूर मंत्री हैं और उन्हें चाहिए कि वो अपने विचार उचित मंच पर रखें.

इससे पहले भी शशि थरूर अपनी बेबाकी को लेकर विवाद पैदा कर चुके हैं.

मंत्री बनने के बाद ट्विटर पर भारत के विमानों में सामान्य वर्ग में यात्रा करने वालों के लिए " कैटल क्लास" शब्द का इस्तेमाल करके थरूर पहले भी विवादों के घेरे में आ चुके हैं.

संबंधित समाचार