महंगाई के लिए केंद्र को दोष

मायावती
Image caption मायावती ने आयातित चीनी को राज्य में लाने देने से इनकार कर दिया है

उत्तर प्रदेश की मुख्यमंत्री मायावती ने खाद्य पदार्थों की मूल्य वृद्धि के लिए केंद्र सरकार की आर्थिक और आयात नीति को दोषी ठहराया है.

उन्होंने आरोप लगाया है कि केंद्र की नीतियों ने 'कालाबाज़ारियों और जमाखोरों' को बढ़ावा दिया है.

उन्होंने कच्ची चीनी को उत्तर प्रदेश न लाए जाने के अपने निर्णय को सही ठहराते हुए कहा कि इस पर रोक तब तक जारी रहेगी जब तक कि प्रदेश के किसानों के गन्ने की पेराई नहीं हो जाती.

उल्लेखनीय है कि केंद्रीय कृषि मंत्री शरद पवार ने कहा था कि चूंकि उत्तर प्रदेश सरकार कांडला बंदरगाह में रखी कच्ची चीनी को राज्य में लाने नहीं दे रही है इसलिए भी चीनी की क़ीमतें कम नहीं हो रही हैं.

लखनऊ में एक पत्रवार्ता में कहा, "केंद्र सरकार कालाबाज़ारियों के दबाव में काम कर रही है. क़ीमतें केंद्र सरकार की ग़रीब विरोधी नीति की वजह से बढ़ रही हैं."

उन्होंने चीनी की बढ़ती क़ीमतों के लिए भी केंद्र सरकार की नीतियों को दोषी ठहराया और कहा कि सरकार की नीतियाँ चीनी मिल मालिकों को ही फ़ायदा पहुँचा रही है.

संबंधित समाचार