हमलावर भारतीय थे: कसाब

कसाब
Image caption कसाब कई बार बयान बदल चुका है

मुंबई में हुए हमलों के प्रमुख अभियुक्त आमिर अजमल कसाब ने अदालत से कहा है कि ताजमहल होटल में हमला करने वाले सभी चार 'आतंकवादी' भारतीय थे.

26 नवंबर 2008 को मुंबई में हुए हमलों में कम से कम 166 लोग मारे गए थे. इन हमलों के मामले की सुनवाई कर रही विशेष अदालत के सामने कसाब ने ताज़ा बयान दिया है.

मुंबई पुलिस का कहना है कि कसाब को मुंबई हमलों के दौरान पकड़ा गया था और वो छत्रपति शिवाजी टर्मिनस पर हुए हमले में शामिल था.

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक़ सोमवार को विशेष अदालत के जज एमएल तहलियानी के सामने अपने बयान में कसाब ने कहा कि ताज हमले में शामिल एक 'आतंकवादी' कश्मीरी था, जबकि दूसरा गुजरात का था.

कसाब ने दावा किया कि तीसरा आतंकवादी अबू इस्माइल मुंबई का था. हालाँकि सरकारी वकील के मुताबिक़ अबू इस्माइल मुंबई हमलों के दौरान पुलिस मुठभेड़ में मारा गया था.

अधिकारियों के मुताबिक़ उस समय अबू इस्माइल और कसाब भागने की कोशिश कर रहे थे. पुलिस की गोलीबारी में अबू इस्माइल मारा गया जबकि कसाब को ज़िंदा पकड़ लिया गया.

आमिर अजमल कसाब विशेष अदालत के सामने कई बार अपना बयान बदल चुका है. एक बार उसने यह स्वीकार कर लिया था कि छत्रपति शिवाजी टर्मिनस पर गोलीबारी में वह शामिल था. लेकिन बाद में उसने मुंबई हमलों में किसी तरह शामिल होने से इनकार कर दिया.

बयान

सोमवार को विशेष अदालत के सामने कसाब ने ये बयान उस समय दिया जब विशेष जज एमएल तहलियानी ने उससे ये पूछा कि वह उन मारे गए चरमपंथियों के बारे में कुछ कहना चाहता है, जिनकी प्रत्यक्षदर्शियों ने पहचान की है.

इस पर कसाब ने ये कहा कि ताज होटल में हुए हमलों में शामिल सभी लोग भारतीय थे.

कुछ दिन पहले मुंबई में हुए हमलों में अपनी किसी भूमिका से इनकार करते हुए कसाब ने यह कहा था कि वो मुंबई हमलों से कई दिन पहले समझौता एक्सप्रेस से भारत आया था.

कसाब ने दावा किया था कि मुंबई हमलों से एक दिन पहले पुलिस ने उसे गिरगाम चौपाटी से गिरफ़्तार किया था.

कसाब के ताज़ा बयान पर अपनी टिप्पणी में सरकारी वकील उज्ज्वल निकम ने कहा कि कसाब बार-बार अपना बयान बदल रहा है और उसका नया बयान इसी सिलसिले की ताज़ा कड़ी है.

उन्होंने कहा कि इससे सरकारी पक्ष का मामला कमज़ोर नहीं होगा.

संबंधित समाचार