बिहार कांग्रेस में जान फूँकने की कोशिश

राहुल गांधी
Image caption राहुल गांधी की यात्रा से बिहार कांग्रेस को काफी उम्मीदें हैं.

कांग्रेस महासचिव राहुल गांधी सोमवार से बिहार का दौरा कर रहे हैं.

उनकी कोशिश राज्य में पार्टी की खोई हुई राजनीतिक ज़मीन वापस दिलाने की होगी.

बिहार में इसी साल विधानसभा चुनाव होने हैं. इसे देखते हुए सारे राजनीतिक दलों की तैयारियाँ शुरू हो गई हैं.

राहुल गांधी की कोशिश युवा मतदाताओं को पार्टी से जोड़ने की होगी. इसके लिए राहुल अपनी नई रणनीति के तहत बिहार के शैक्षणिक संस्थानों का दौरा करेंगे और युवाओं से कांग्रेस से जुड़ने की अपील करेंगे.

लोकसभा चुनाव में कांग्रेस को राज्य की 40 में से सिर्फ़ दो सीटें मिली थीं लेकिन उसके वोट शेयर में बढ़ोत्तरी हुई थी.

पार्टी के राज्य स्तरीय नेताओं का मानना है कि राष्ट्रीय जनता दल (राजद) और लोक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) से अलग होकर अकेले चुनाव लड़ने के कारण ही लोकसभा चुनाव में पार्टी का मत प्रतिशत बढ़ा और अगर विधानसभा चुनाव भी अकेले लड़ा जाए तो पार्टी की स्थिति सुधर सकती है.

राहुल गांधी पश्चिमी चंपारण में उसी जगह से अपनी यात्रा शुरु कर रहे हैं जहां महात्मा गांधी ने पहली बार सत्याग्रह आंदोलन शुरु किया था.

इसके बाद वो दरभंगा, गया और पटना जाएंगे. गया में उनकी योजना दलित युवकों से मिलने की है. किशनगंज और भागलपुर की यात्रा के दौरान वह मुस्लिम समुदाय का रुख़ समझने की कोशिश करेंगे.

संबंधित समाचार