मुंबई में शिव सैनिकों की गिरफ़्तारी

शाहरुख़ ख़ान और करण जौहर
Image caption शाहरुख़ की फ़िल्म के निर्माता-निर्देशक करण जौहर हैं

मुंबई में शाहरुख़ ख़ान की फ़िल्म 'माइ नेम इज़ ख़ान' के ख़िलाफ़ प्रदर्शन कर रहे शिव सेना के 46 कार्यकर्ताओं को गिरफ़्तार किया गया है.

पुलिस अधिकारियों ने बताया है कि मुंबई के मुलुंड इलाक़े में प्रदर्शनकारियों ने एक सिनेमाघर पर हमला करके शीशे तोड़ दिए, ऐसी ही घटना घाटकोपर इलाक़े में भी हुई जहाँ शिव सैनिकों ने दो सिनेमाघरों को निशाना बनाया.

फ़िल्म की रिलीज़ का विरोध कर रहे प्रदर्शनकारियों ने पत्थर फेंके और शाहरुख़ ख़ान के ख़िलाफ़ नारे लगाए.

उन सिनेमाघरों पर हमले किए गए जहाँ 12 फ़रवरी से शाहरुख़ ख़ान की फ़िल्म रिलीज़ होने वाली थी.

मुंबई के एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी रितेश कुमार ने समाचार एजेंसी पीटीआई को बताया, "हमने सिनेमाघरों के बाहर प्रदर्शन कर रहे शिव सेना के 46 कार्यकर्ताओं को गिरफ़्तार किया है."

ख़बरें मिली हैं कि शिव सेना के कार्यकर्ताओं ने सिनेमाघरों के मालिकों को धमकी दी है कि वे 'माइ नेम इज़ ख़ान' के लिए एडवांस बुकिंग न करें वर्ना "अंजाम भुगतने के लिए तैयार रहें".

पुलिस अधिकारियों ने बताया कि गिरफ़्तार किए गए लोगों के ख़िलाफ़ उत्पात मचाने और ग़लत ढंग से भीड़ जुटाने के आरोप के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है.

शाहरुख़ ख़ान ने आईपीएल क्रिकेट टूर्नामेंट में पाकिस्तान के खिलाड़ियों को शामिल न किए जाने के मामले पर एक बयान दिया था जिसके बाद हंगामा शुरू हुआ, शाहरुख़ ख़ान ने कहा था कि पाकिस्तानी खिलाड़ियों को आईपीएल की नीलामी में चुना जाना चाहिए था.

इसके बाद शिव सेना ने इसका मुखर विरोध किया और उनकी आगामी फ़िल्म को रिलीज़ नहीं होने देने की धमकी दी, हालाँकि बाद में शिव सेना ने कहा था कि वे फ़िल्म की रिलीज़ को नहीं रोकेंगे लेकिन शाहरुख़ ख़ान का विरोध करते रहेंगे.

इस हंगामे से ठीक पहले फ़िल्म के निर्देशक करण जौहर ने मुंबई पुलिस के कमिश्नर डी शिवनंदन से मुलाक़ात करके उनसे सुरक्षा के मामले में अपनी चिंताओं के बारे में बातचीत की थी.

संबंधित समाचार